The Kashmir Files पर बुरे फंसे IAS नियाज खान, भेजा जाएगा नोटिस

भोपाल। “The Kashmir Files” आज हर किसी की जबान पर छाई हुई है। कश्‍मीरी पंडितों के जबरन पलायन की त्रासदी पर बनी इस फिल्म पर विवादित बयानों की झड़ी लग गई है। वहीं, The Kashmir Files पर विवादित ट्वीट देने वाले आइएएस अधिकारी नियाज खान (IAS Niyaaz Khan) की मुश्‍किलें बढ़ गई है। साथ ही उनके इस बयान को अधिकारियों की मर्यादा का उल्‍लंघन मानते हुए राज्‍य सरकार अब उन्‍हें नोटिस भेजने जा रही है। एक ओर जहां कई राज्यों ने इस फिल्म को टेक्स फ्री कर दिया है वहीं दूसरी ओर कई लोग है जो इस पर विवादित बयान दे रहे है। इस फिल्म का विरोध जता रहे है।

ALSO READ: MP: शिवराज सरकार के चौथे कार्यकाल के 2 वर्ष पूरे, VD Sharma ने गिनाई उपलब्धियां

आज यानी बुधवार को मध्य प्रदेश (Madhya pradesh) के गृहमंत्री डा नरोत्‍तम मिश्रा (Narottam Mishra) ने मीडिया से चर्चा के दौरान इस बात पर चर्चा की। नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि अधिकारी नियाज़ खान अधिकारियों के लिए तय लक्ष्मणरेखा को लांघ रहे हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि, राज्य सरकार इस संबंध में आईएएस को कारण बताओ नोटिस जारी करेगी। आपको बता दें कि आईएएस के इस बयान पर नरोत्तम मिश्रा से पहले चिकित्‍सा शिक्षा मंत्री विश्‍वास कैलाश सारंग और खनिज विकास निगम के पूर्व उपाध्‍यक्ष गोविंद मालू भी कार्रवाई की बात कह चुके हैं।

ALSO READ: Birthday पर मां वैष्णों देवी का आशीर्वाद लेने पहुंची Kangna Ranaut

आपको बता दें कि, नियाज खान ने हाल ही में ‘द कश्‍मीर फाइल्‍स’ को लेकर ट्वीट किया था। उन्होंने कहा था कि, कश्मीर फाइल ब्राह्मणों का दर्द दिखाती है। उन्हें पूरे सम्मान के साथ कश्मीर में सुरक्षित रहने की अनुमति दी जानी चाहिए। निर्माता को कई राज्यों में बड़ी संख्या में मुसलमानों की हत्याओं को दिखाने के लिए एक फिल्म भी बनानी चाहिए। मुसलमान कीड़े नहीं बल्कि इंसान और देश के नागरिक हैं। उन्होंने एक अन्य ट्वीट कर कहा था कि, अलग-अलग मौकों पर मुसलमानों के नरसंहार को दिखाने के लिए एक किताब लिखने की सोच रहा था ताकि कश्मीर फाइल्स जैसी फिल्म कुछ निर्माता द्वारा बनाई जा सके, ताकि अल्पसंख्यकों के दर्द और पीड़ा को भारतीयों के सामने लाया जा सके।