कितनी सच्चाई है सांसद राजमणि पटेल के रानी कमलापति पर दिए बयान में ? यहां पढ़े।

MP के रीवा से राज्यसभा सांसद राजमणि पटेल(RAJMANI PATEL) ने रानी कमलापति को लेकर एक बयान दिया है, साथ ही प्रदेश की शिवराज सरकार पर नाम बदले जाने को लेकर भी सवाल उठाया है।

MP के रीवा से राज्यसभा सांसद राजमणि पटेल(RAJMANI PATEL) ने रानी कमलापति को लेकर एक बयान दिया है, साथ ही प्रदेश की शिवराज सरकार पर नाम बदले जाने को लेकर भी सवाल उठाया है। रानी कमलापति के जाति और धर्म के बारे में कांग्रेस के राजमणि पटेल ने सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(PM MODI)से ही सवाल पूछ लिया कि प्रधानमंत्री बताये , जब रानी कमलापति की शादी एक मुस्लिम (निजामशाह) से हुई थी तो वह हिन्दू कैसे हुई?

उन्होंने भारतीय जनता पार्टी द्द्वारा दलितों को इतना ज्यादा महत्व दिए जाने पर भी कहा कि यह वोटबैंक की राजनिति है। बीजेपी दलितों का भला नहीं चाहती, बल्कि चुनाव में उनका इस्तेमाल करना चाहती है। उन्होंने आगे कहा, इससे पहले कभी टांट्या मामा और बिरसा मुंडा की जयंती नहीं मनाई गई जबकि प्रदेश में कई सालो से इनकी ही सरकार है।

निजाम शाह से हुई थी रानी कमलापति की शादी

रानी कमलापति गिन्नौरगढ़ के मुखिया निजाम शाह की विधवा गोंड शासक थीं। निजाम शाह गोंड राजा थे और उनकी सात पत्नियां थी। इनमें से एक रानी कमलापति थीं। बेहद ही खूबसूरत रानी कमलापति राजा की सबसे प्रिय पत्नी थीं। उस समय निजाम शाह के भतीजे आलम शाह का बाड़ी पर शासन था।आलम शाह अपने चाचा निजाम शाह से जलता था कहा जाता है कि आलम शाह को निजाम शाह की दौलत और संपत्ति के साथ कमलापति की खूबसूरती भी खटकती थी। आलम शाह रानी कमलापति की खूबसूरती पर मोहित था। उसने रानी से अपने प्यार का इजहार भी किया था, लेकिन रानी ने उसे ठुकरा दिया था।

उसके बाद आलम शाह ने रानी कमलापति को पाने के लिए एक दिन अपने चाचा निज़ाम शाह को धोखे से जहर देकर मार दिया निज़ाम शाह की मौत के बाद आलम शाह ने राज्य पर क़ब्ज़ा कर लिया और रानी कमलापति अपने बेटे नवल शाह के साथ भोपाल चली गई वहां कमलापति की मुलाकात दोस्त मोहम्मद ख़ान से हुई और उन्होंने उसे अपने पति की हत्या का बदला लेने के लिए कहा और बदले में एक लाख अशर्फ़ियां देने का वादा किया. दोस्त मोहम्मद ख़ान ने आलम शाह की हत्या कर दी।

रानी नहीं दे पाई पूरी रकम

मोहम्मद खान ने आलमशाह की हत्या के बाद रानी कमलापति से वादे के अनुसार अपना इनाम माँगा ,पर रानी एक लाख के बदले 50 हजार अशर्फिया ही दे पाई, और फिर आधा भोपाल का राज्य दे दिया। इसके बाद कहा जाता है कि रानी के पुत्र नवलशाह और मोहम्मद खान के बीच लड़ाई हुई और मोहम्मद खान ने नवलशाह की हत्या कर दी और रानी कमलापति को अपने हरम में रखने का जतन करने लगा जिससे बचने के लिए रानी कमलापति ने जल जौहर कर लिया।