हरिद्वार : अगर आप हरिद्वार में गंगा दशहरा और निर्जला एकादशी पर होने वाले स्नान पर्व में हिस्सा लेने जा रहे है तो आपके लिए एक बड़ी खबर सामने आ रही है, जिसके मुताबिक अब आप ये दो स्नान नहीं कर पाएंगे। जी हाँ, दरअसल कोरोना महामारी के कारण  स्नान रद्द कर दिया गया है। बताया जा रहा है सिर्फ तीर्थ पुरोहित और गंगा सभा के पदाधिकारी ही ये दो दिन पूजन कर सांकेतिक स्नान करेंगे।

इसी कड़ी में हरिद्वार पुलिस ने सोशल मीडिया के माध्यम से दूसरे राज्यों के श्रद्धालुओं से गंगा स्नान के लिए न आने की अपील की है। गौरतलब है कि 20 जून को गंगा दशहरा का पर्व है और 21 जून को निर्जला एकादशी का व्रत और स्नान है। इस दिन स्न्नान करने का काफी महत्त्व माना जाता है। ऐसे में जिले में श्रद्धालुओं का आवागमन बढ़ने लगा है जिसको देखते हुए 20 और 21 जून को होने वाले स्नान पर्व को आम श्रद्धालुओं के लिए रद्द कर दिया है।

एसएसपी डी सेंथिल अबूदई कृष्णराज एस ने कहा कि बाहरी राज्यों के श्रद्धालु 20 और 21 जून को गंगा स्नान करने हरिद्वार न आएं। दोनों दिन जिले की सीमाएं सील कर श्रद्धालुओं को लौटाया जाएगा।

सांकेतिक होगा स्नान
राहतभरी खबर यह है कि जिन लोगों के पास 72 घंटे पूर्व की आरटीपीसीआर निगेटिव रिपोर्ट और पंजीकरण होगा, वही हरिद्वार आ पाएंगे, लेकिन स्नान नहीं कर पाएंगे। एसएसपी के मुताबिक, गंगा दशहरा और निर्जला एकादशी स्नान पर्व पर हरकी पैड़ी पर सांकेतिक स्नान होगा।

सिर्फ तीर्थ पुरोहित और गंगा सभा के पदाधिकारी स्नान करेंगे। हरकी पैड़ी एवं अन्य घाटों पर आम श्रद्धालुओं के स्नान पर रोक रहेगी। स्नान करते पकड़े जाने पर आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत कानूनी कार्रवाई की जाएगी। हरिद्वार पुलिस की ओर से सोशल मीडिया से लोगों को यह जानकारी दी जा रही है।