आईआईएम इंदौर में प्रोफेसर अभिनन्दन जैन द्वारा गेस्ट टॉक आयोजित | Guest Talk by Professor Abhinandan Jain at IIM Indore

0
30
IIM

फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम के अंतर्गत आईआईएम इंदौर ने प्रोफेसर अभिनंदन के. जैन, संकाय, आईआईएम अहमदाबाद द्वारा एक अतिथि वार्ता आयोजित की। उन्होंने मैनेजमेंट अकादमिक कैसे बनें, इस विषय पर बात की।

सत्र की शुरुआत प्रोफेसर सुबीन सुधीर, कार्यक्रम समन्वयक, एफडीपी और संकाय, आईआईएम इंदौर द्वारा स्वागत भाषण से हुई। प्रोफेसर रंजीत नंबूदिरी, डीन, अकादमिक और संकाय, आईआईएम इंदौर ने प्रोफेसर जैन का परिचय कराया।

IIM-

इसके बाद प्रोफेसर जैन द्वारा एक दिलचस्प सत्र आयोजित किया गया, जिसमें उन्होंने प्रबंधन अकादमिक शब्द के बारे में प्रतिभागियों को क्या महसूस होता है, इस बारे में चर्चा शुरू की। प्रतिभागियों ने उत्साहपूर्वक चर्चा में भाग लेते हुए, प्रबंधन और अकादमिक की परिभाषा पर अपने विचार साझा किए और कहा कि किसी स्थान, व्यक्ति या किसी घटना को प्रबंधित करने को प्रबंधन कहा जा सकता है – जो कि ज्यादातर संदर्भ से प्रेरित है।

IIM-

प्रोफेसर जैन ने इसके लिए सहमति व्यक्त की और कहा कि आजकल संदर्भ में काफी बदलाव हो रहा है, और उस विशेष संदर्भ में अपग्रेड और अपडेट किए जाने के लिए प्रबंधन की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि हमें बदलते संदर्भ में खुद को तैयार करने की जरूरत है, जिससे हमारे छात्र भविष्य के लिए खुद को बेहतर तरीके से तैयार कर सकें। ‘ उन्होंने प्रतिभागियों को यह समझने की सलाह दी कि एक ‘अच्छा सीखने वाला’ बनने की कुंजी यह जानना है कि चीजें क्या हैं, चीजें कैसे काम कर रही हैं और उस विशेष चीज या घटना का उद्देश्य क्या है। किसी चीज की अवधारणा और संदर्भ को याद रखें, इसे समझें, इसे लागू करने, विश्लेषण और मूल्यांकन करने के लिए विचारों को विकसित करें। उन्होंने कहा कि ये उपकरण आपको एक बेहतर शिक्षार्थी बनने में मदद करेंगे – आपको यह समझना होगा कि सीखना है की कुछ भी चीज़ आखिर कैसे सीखना है ’।

IIM

तेज़ी से बदलती तकनीक के बारे में चर्चा करते हुए, प्रोफेसर जैन ने कहा कि शिक्षकों को आज यह जानने की जरूरत है कि छात्रों को भविष्य के लिए तैयार होने और तकनीक को सीखने में मदद करने के लिए क्या करना चाहिए। उन्होंने कहा कि हमें खुद को सीखने, पुरानी सीखी बातें भूलने और फिर से नए सिरे से सीखने ज़रूरत है ताकि हमारे बदलावों से अपडेट रहें और हमारे फॉलोवर्स नई चीजों के प्रति ग्रहणशील बनें, नई चीजों को अपनाएं और सक्षम बनें। ‘

उन्होंने यह भी कहा कि शिक्षण में उन्नति केवल प्रौद्योगिकी या डिजिटलाइजेशन से नहीं होती है, बल्कि शैक्षणिक शिक्षण को कार्यस्थल की सीख के साथ जोड़कर, अर्थात स्वयं के अनुशासन के बारे में सीखना, अंतर-विषयों से सीखना, साथियों और समूहों से सीखना, जिसमें शिक्षक और अध्येता दोनों शामिल होते हैं जो विभिन्न विषयों में पारंगत होते हैं। शोध परियोजनाएं जो सांस्कृतिक हैं, दोनों संकायों और छात्रों को शामिल करती हैं, जो कई विषयों से हैं, जो उन्नयन के संदर्भ में अंतर को प्रबंधित करने में मदद करते हैं और न केवल व्यक्तिगत रूप से, बल्कि एक समूह के रूप में भी-दूसरे के दृष्टिकोण को समझते हुए चलना ही अच्छा शिक्षक बनना है।

IIM

अपने निजी जीवन के उदाहरणों को साझा करते हुए, प्रोफेसर जैन ने प्रतिभागियों को दूसरों से सीखने की सलाह दी कि कैसे एक बेहतर इंसान बनना है, दूसरों की गलतियों से सीखना है और दूसरों को देखकर नई चीजें सीखना है और यह भी, कि जीवन में निर्णय लेना सीखना सबसे महत्वपूर्ण है। ‘हमेशा अपने ज्ञान को व्यापक बनाएं और ज्ञान को बढ़ाने और फैलाने का तरीका सीखें- यह आपको एक बेहतर व्यक्ति बनने और यहां तक कि समाज में योगदान करने में मदद करेगा’, उन्होंने कहा।

सत्र का समापन प्रश्नोत्तर के साथ हुआ।

प्रोफेसर जैन ने दोपहर के सत्र में केस मेथड्स और केस राइटिंग पर एक कार्यशाला की, जिसमें उन्होंने प्रतिभागियों के साथ केस राइटिंग की महत्वपूर्ण जानकारियां साझा कीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here