गुजरात सरकार अब छठी से आठवीं तक के बच्चों को सिखाएगी पंचर बनाना, दिए निर्देश

आज कल युवाओं को सही रोजगार की जरुरत है लेकिन देश का युवा देश का भविष्य तय करता हैं।

0
51
gujrat

गुजरात : आज कल युवाओं को सही रोजगार की जरुरत है लेकिन देश का युवा देश का भविष्य तय करता हैं। युवाओं को सही रोजगार मिलेगा तो देश का भविष्य भी बेहतर बनेगा लेकिन जब रोजगार की बात आती है तो कई मंत्री उन्हें चाय, पकोड़े बेचकर खुद को अपने पैर पर खड़े होने की सलाह देते हैं। हाल ही में गुजरात सरकार ने एक नया फैसला किया है जिससे बच्चों को चाय, पकोड़े छोड़ साइकिल का पंचर बनाने के लिए तैयार करेंगे।

गुजरात सरकार के इस फैसले के बाद सोशल मीडिया पर कई लोगों ने चुटकियां लेना शुरू कर दिया है। वहीं कई लोग इसपर विरोध भी जाता रहे हैं। पहले भी ऐसे चाय, पकौड़े वाले बयान पर दूसरी पार्टी वालों ने बीजेपी को घेरा था, अब गुजरात सरकार का ये नया आदेश क्या रंग दिखाएगा ये देखना बाकी है। बता दें कि गुजरात सरकार के नए आदेश में बच्चों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए टॉयर का पंक्चर सही करने की ट्रेनिंग देने का फैसला हुआ है।

इस बाबत शासन ने बाल मेला आयोजन की तैयारी की है। बता दे, सरकार ने स्कूली बच्चों को जीवन कौशल के नाम पर टायर का पंक्चर बनाना, कुकर ठीक करना जैसे काम सिखाएगी। इसे लेकर सरकार एक परिपत्र जारी कर चुकी है। सरकार ने एक पत्र लिखा उस पत्र में लिखा था कि क्लास 6 से लेकर क्लास 8 तक के बच्चों को पंचर बनाने की ट्रेनिंग दी जाएगी।

पहली से पांचवीं कक्षा तक प्राथमिक में बाल मेला और उच्च प्राथमिक यानी कि छठी से आठवीं में लाइफ स्किल (जीवन कौशल मेला) का आयोजन करना होगा। प्रशासन ने दोनों मेलों में आयोजित होने वाली गतिविधियों की सूची भी जारी की है। इस पत्र को पड़ने के बाद सोशल मीडिया पर लोग मजे ले रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here