यात्रियों के लगेज के बिना ही उड़ान भर रही Flights, सामने आई ये बड़ी वजह

इन दिनों गर्मी (Hot Summer) का आलम ऐसा हो रहा है कि इंसान तो क्या विमानों (Flights) तक का दम फुल ने लगा है। दरअसल, मई (May) के महीने में गर्मी का तापमान इतना ज्यादा बढ़ गया है कि हर कोई इस गर्मी से परेशान हो गया है।

Domestic flights

इन दिनों गर्मी (Hot Summer) का आलम ऐसा हो रहा है कि इंसान तो क्या विमानों (Flights) तक का दम फुल ने लगा है। दरअसल, मई (May) के महीने में गर्मी का तापमान इतना ज्यादा बढ़ गया है कि हर कोई इस गर्मी से परेशान हो गया है। इतना ही नहीं विमानों को ही गर्मी में ऐसे ही उड़ान भरनी पड़ रही है। अब आप सोच रहे होंगे कि यह लाइन का मतलब क्या हुआ तो आपको बता दें तापमान इतना अधिक होते जा रहा है जिसकी वजह से विमानों को एयरपोर्ट से टेकऑफ करने में काफी ज्यादा परेशानी झेलनी पड़ रही है।

दरअसल, कई बार यात्रियों के लगेज के बिना ही विमानों को उड़ान भरने पड़ रही है। अब तक ऐसी तीन घटना सामने आ चुकी है, जिसमें यात्रियों के लगेज के बिना ही विमानों ने उड़ान भर दी। अभी हाल ही में स्पाइस जेट के विमान ने बेंगलुरु के लिए लगेज के बगैर ही उड़ान भरी। जी हां, इस विमान में यात्रियों का सामान नहीं लाया गया। ऐसे में स्पाइस जेट के अधिकारियों का कहना है कि तापमान ज्यादा होने की वजह से ऐसा किया जा रहा है। इसको लेकर पहले से ही यात्रियों को जानकारी दी जाती है।

Must Read : ओटीटी पर ‘The Kashmir Files’ ने मचाया धमाल, पहले ही हफ्ते जी5 पर पाए इतने लाख व्यूज

कहा जाता है कि उनका सामान दूसरे फ्लाइट से 1:00 तक पहुंचाया जाता है। जानकारी के मुताबिक, स्पाइसजेट कंपनी के एक अधिकारी रंजन प्रभाकर का कहना है कि जबलपुर एयरपोर्ट में तापमान ज्यादा बना हुआ है, जिस वजह से फ्लाइट्स को टेकऑफ करने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इस वजह से पैसेंजर के लगेज के बिना ही फ्लाइट को उड़ान भरवाई जा रही है ताकि फ्लाइट में वजन कम किया जा सके।

उन्होंने यह भी कहा है कि ऐसा पहली बार नहीं किया जा रहा है, अब तक ऐसा कई बार किया जा चुका है। दरअसल जब तापमान 41 और 42 डिग्री या उससे ज्यादा होता है तो ऐसा करना पड़ता है। उन्होंने यह भी कहा कि इसको लेकर पहले से ही यात्रियों को जानकारी दे दी जाती है कि उनका सामान अगली फ्लाइट में भेजा जाएगा और वह उन तक पहुंचा दिया जाएगा यह कदम उठाना यात्रियों की सुरक्षा के लिए बेहद जरूरी है।