फारूक अब्दुल्ला ने संयुक्त विपक्ष के राष्ट्रपति उम्मीदवार बनने से किया इनकार, नाम वापस लेकर कहीं ये बात

इससे पहले राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) प्रमुख शरद पवार ने भी राष्ट्रपति पद का चुनाव लड़ने से अनिच्छा जताई थी। लेकिन फिर कुछ विपक्षी दलों की ओर से उनकी उम्मीदवारी का समर्थन भी किया गया था।

नेशनल कांफ्रेंस के प्रमुख फारूक अब्दुल्ला ने संयुक्त विपक्ष के राष्ट्रपति उम्मीदवार से अपना नाम वापस ले लिया है। जी हां संयुक्त विपक्ष के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के रूप में विचार के लिए अपना नाम वापस ले लिया है। आपको बता दें कि इससे पहले राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) प्रमुख शरद पवार ने भी राष्ट्रपति पद का चुनाव लड़ने से अनिच्छा जताई थी। लेकिन फिर कुछ विपक्षी दलों की ओर से उनकी उम्मीदवारी का समर्थन भी किया गया था।

 

फारूक अब्दुल्ला ने कहां है कि मैं राष्ट्रपति पद के लिए संभावित संयुक्त विपक्षी उम्मीदवार के रूप में अपना नाम विचार से वापस लेता हूं। क्योंकि मेरा मानना है कि जम्मू-कश्मीर एक महत्वपूर्ण मोड़ से गुजर रहा है और ऐसे में अनिश्चित समय में राज्य के लोगों की बात रखने में मदद के लिए मेरे प्रयासों की जरूरत है।

फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि में राजनीति में सक्रिय हूं, जम्मू-कश्मीर और देश की सेवा में सकारात्मक योगदान देने के लिए हमेशा तैयार रहूंगा। मैं अपना नाम प्रस्तावित करने के लिए ममता दीदी का भी आभारी हूं। मैं उन सभी वरिष्ठ नेताओं का भी आभारी हूं जिन्होंने मुझे अपना समर्थन दिया है।

Must Read- सोनिया गांधी ने की युवाओं से अपील, अग्निपथ योजना वापस लेने के लिए कांग्रेस करेगी संघर्ष