Homeइंदौर न्यूज़स्वच्छता का डॉन इंदौर: ग्वालियर के दल ने समझा इंदौर के सॉलिड...

स्वच्छता का डॉन इंदौर: ग्वालियर के दल ने समझा इंदौर के सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट को

नगर निगम ग्वालियर के दल द्वारा सर्वप्रथम वार्ड क्रमांक 73 जीरो वेस्ट वार्ड का एक्शन किया वहां पर देखा कि किस प्रकार से ही यह वार्ड जीरो वेस्ट वार्ड बना है।

इंदौर। इंदौर की स्वच्छता देखने ग्वालियर नगर निगम के आयुक्त व निगम के अधिकारियो का 20 सदस्सीय दल द्वारा इंदौर के सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट, जीरो वेस्ट वार्ड 73, लाल बाग पैलेस कचरा ट्रांसफर स्टेशन, व टेªचिंग ग्राउण्ड ड्राय-वेस्ट प्लांट व कम्पोस्ट प्लांट, बायो गैस प्लांट, कबीर खेड़ी स्थित सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट का अवलोकन किया गया। इस मौके पर ब्रिलिएंट कन्वेंशन सेंटर में 20 सदस्सीय दल को कलेक्टर श्री मनीष सिंह, आयुक्त सुश्री प्रतिभा, अपर आयुक्त श्री संदीप सोनी द्वारा इंदौर के स्वच्छता अभियान के संबंध में प्रेजेटेशन के माध्यम से विस्तार से जानकारी भी दी गई।

इस अवसर पर कलेक्टर श्री मनीष सिंह, आयुक्त सुश्री प्रतिभा पाल, गवालियर निगम आयुक्त श्री किशोर कन्याल, अपर आयुक्त श्री संदीप सोनी, श्री अभय राजनगांवकर, श्री अभय राजनगांवकर, अधीक्षण यंत्री श्री महेश शर्मा, सहायक यंत्री सौरभ माहेश्वरी व अन्य उपस्थित थे।

कलेक्टर श्री मनीष सिंह एवं निगम आयुक्त सुश्री प्रतिभा पाल द्वारा बिलियन कन्वेंशन सेंटर पर ग्वालियर निगम आयुक्त श्री किशोर सान्याल व अन्य अधिकारियों के साथ इंदौर के सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट एवं स्वच्छता अभियान के संबंध मे अपने विचार साझा करते हुए बताया कि डोर टू डोर कचरा संग्रहण का कार्य सबसे महत्वपूर्ण है और उससे भी महत्वपूर्ण है कचरे का सिग्रीगेशन इसके लिए आवश्यक है कि प्रत्येक नागरिक स्वच्छता अभियान में सहयोगी बने। स्वच्छता अभियान में दरोगा का भी महत्वपूर्ण स्थान है, क्योंकि दरोगा ही अपने मार्गदर्शन में सफाई मित्रों से बेहतर काम कराने में सक्षम रहता है।

 

कलेक्टर श्री सिंह एवं आयुक्त सुश्री पाल द्वारा इंदौर के स्वच्छता अभियान का प्रथम दिन से आज दिन तक किस प्रकार से स्वच्छता पर कार्य किया गया और क्या क्या परेशानियां उनका निपटान किस तरह से किया गया के संबंध में विस्तार से गवालियर से आए दल को बताया गया।

इस अवसर पर ग्वालियर के आयुक्त श्री किशोर कन्याय फसांग ने कहा कि इंदौर ने स्वच्छता में बहुत ही बेहतरीन कार्य किया है मेरे द्वारा शहर के विभिन्न स्थानों का अवलोकन किया गया और सबसे आश्चर्य की बात है कि हमें कहीं पर भी कचरा तो दिखाई नहीं दिया और ना ही किसी प्रकार का अवैध होर्डिंग बैनर लगे दिखे। उन्होंने कहा कि इंदौर में सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट के साथ इस स्वच्छता में उत्कृष्ट कार्य किया है इसके लिए यहां के नागरिकों एवं जनप्रतिनिधियों के साथ ही मीडिया को भी बधाई दी गई। उन्होंने कहा कि इंदौर के सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट की प्लानिंग और स्वच्छता अभियान मैं इंदौर द्वारा किए गए कार्य की तर्ज पर ग्वालियर नगर निगम में भी कार्य किया जाएगा।

ग्वालियर नगर निगम आयुक्त श्री किशोर कान्याल के निर्देशन में अधिकारियों के दल जिसमें अपर आयुक्त श्री सत्येंद्र सिंह गुर्जर, नगर निवेशक श्री पवन सिंघल, सहायक नगर निवेशक श्री सुरेश अहिरवार, नोडल अधिकारी श्री श्रीकांत कांटे, सहायक यंत्री श्री शिशिर श्रीवास्तव, उपयंत्री श्री पवन शर्मा, प्रभारी सहायक यंत्री कार्यशाला श्री शैलेंद्र सक्सेना, उपायुक्त संपत्ति पर श्री एम एस भदौरिया, सहायक संपत्ति कर अधिकारी श्री महेश पाराशर, स्वास्थ्य अधिकारी डॉ वैभव श्रीवास्तव, श्री विष्णु कुमार पमनानी, जनसंपर्क अधिकारी श्री मधु सोलापुरकर सहित 20 सदस्यीय दल द्वारा इंदौर की स्वच्छता व सॉलिड वेस्ट मेनेजमेंट, स्वच्छता संबंधी कार्यों स्वच्छ सर्वेक्षण हेतु संचालित गतिविधियों एवं अन्य कार्य हेतु अपनाई जा रही प्रक्रिया व गतिविधियों के संबंध में इंदौर को के सॉलिड वेस्ट मेनेजमेंट, सीवरेज टीटमेंट प्लांट, लाल बाग पैलेस गारबेज स्टेशन, टेचिंग ग्राउण्ड ड्राय वेस्ट प्लांट, बायोगैस प्लांट, कबीर खेड़ी सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट व शहर के अन्य स्थानो का अवलोकन किया।

आयुक्त सुश्री प्रतिभा पाल एवं अपर आयुक्त श्री संदीप सोनी द्वारा प्रेजेटेशन के माध्यम से इंदौर के स्वच्छता अभियान के विस्तृत जानकारी देते हुए, बताया कि किस प्रकार से पूर्व में इंदौर में जगह-जगह कचरा पेटिया हुआ करती थी, जिस कचरा पेटी के आस-पास कचरे के ढेर लगा हुए होते थे, इसके पश्चात इंदौर ने स्वच्छता अभियान के तहत इंदौर को कचरा पेटी से मुक्त करते हुए, डोर टू डोर कचरा संग्रहण वाहन चलाये, जिनका जीपीएस सिस्टम के माध्यम से मॉनिटरिंग किया जा रहा है, सभी कचरा संग्रहण वाहनो अपने निर्धारित रूट व समय पर अपने कार्य क्षेत्र में कार्य कर रहे है। शहर को ओडीएफ मुक्त कैसे किया, पहले गीला-सुखा कचरा संग्रहित किया जाता है, अब हर दिन 6 बिन की तर्ज पर 6 प्रकार का कचरा संग्रहित किया जा रहा है। थैला बैंक, बर्तन बैंक, डिस्पोजल फ्री क्षेत्र, जीरो वेस्ट इवेंट, जीरो वेस्ट शादी, नाला सफाई अभियान, नाला क्रिकेट, नाला मेडिकल चेकअप, नाला फुटबॉल, नाला दंगल व अन्य गतिविधियेां के संबंध में विस्तार से जानकारी दी गई। साथ ही डोर टू डोर कचरा संग्रहण वाहनो से संग्रहित कचरे को गारबेज कचरा ट्रांसर्फर स्टेशन तक किस प्रकार से पहुंचाया जा रहा है, इस सेग्रिगेट कचरे को किस प्रकार से टेªचिंग ग्राउण्ड पर डिसेंटलाईज्ड मटेरियल रिकवरी प्लांट व ड्राय वेस्ट प्रोसेसिंग प्लांट, कम्पोस्ट प्लांट में प्रोसेस किया जा रहा है। इसके साथ ही टेचिंग ग्राउण्ड में निर्माणधीन बायागैस प्लांट के संबंध में भी विस्तार से जानकारी देते हुए, बताया कि यह एशिया को बडा बडा बायोगैस सीएनजी प्लांट है जहां पर गीले कचरे से बायोगैस का निर्माण किया जाकर उसे लोक परिवहन में उपयोग किया जा रहा है।

स्वच्छता के प्रेजेटेशन के दौरान नगर निगम ग्वालियर के दल द्वारा सवाल किया कि किस प्रकार से डोर टू डोर कचरा संग्रहण कचरा संग्रहित करता है और एक वाहन कितने परिवारो का कचरा संग्रहित करता है? कचरा संग्रहण वाहनो का संधारण किस प्रकार से किया जाता है? के संबंध में अपर आयुक्त श्री सोनी से जानकारी चाही। इस पर अपर आयुक्त श्री सोनी ने बताया कि इंदौर की आबादी के मान से जिसमें नंबर ऑफ हाउसेसे और रूट डिस्टेंस के मान से कचरा वाहनो को चलाया जाता है। साथ ही हर क्षेत्रवार कचरा संग्रहण वाहनो को निर्धारित रूट व समयानुसार जीपीएस सिस्टम से कन्टोल किया जाता है, वाहनो पर चलने वाले वाहन चालक व हेल्पर नागरिको को कचरा संग्रीग्रेट करने के लिये प्रतिदिन प्रेरित करते है और नागरिक भी उन्हे अलग-अलग कचरा करके देते है। साथ ही डोर टू डोर कचरा संग्रहण वाहनो का संचालन व संधारण कार्य निगम की वर्कशॉप से किया जाता है, निगम की वर्कशॉप को आयएसओ का प्रमाण पत्र भी प्राप्त है जहां पर कचरा संग्रहण वाहनो का तकनीक विशेषज्ञो द्वारा संधारण किया जाता है।

नगर निगम ग्वालियर के दल द्वारा सर्वप्रथम वार्ड क्रमांक 73 जीरो वेस्ट वार्ड का एक्शन किया वहां पर देखा कि किस प्रकार से ही यह वार्ड जीरो वेस्ट वार्ड बना है। इसके साथ ही यह भी देखा कि किस प्रकार से कंपोस्ट खाद का निर्माण घर घर में किया जा रहा है और घर के निकलने वाले गीले कचरे का निपटान घर में किया जा रहा है।

इसके पश्चात नगर निगम ग्वालियर के दल द्वारा लाल बाग पैलेस के गारबेज कचरा टांसर्फर स्टेशन का अवलोकन किया गया, यहां उन्होने देखा कि किस प्रकार से शहर के विभन्न स्थानो से डोर टू डोर कचरे को सेग्रीगेट कर यहां पर लाया जा रहा है और किस प्रकार से पृथक-पृथक किये गये कचरे को निपटान हेतु टेªचिंग ग्राउण्ड पर भेजा जा रहा है। इसके बाद दल द्वारा देवगुराडिया स्थित टेªचिंग ग्राउण्ड का अवलोकन किया गया,य यहां पर ड्राय-वेस्ट प्लांट व कम्पोस्ट प्लांट, निर्माणधीन बायागैस प्लांट, डिसेंटलाईज्ड मटेरियल रिकवरी प्लांट, कबीर खेड़ी सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट का अवलोकन किया तथा देखा कि किस प्रकार से शहर के विभिन्न स्थानो से एकत्रित सुखे कचरे का सेग्रिगेशन कर किस प्रकार से निपटान किया जा रहा है और गीले कचरे से कम्पोस्ट खाद का निर्माण व बायोगैस का निर्माण किया जा रहा है। नगर निगम ग्वालियर के 20 सदस्सीय दल द्वारा इंदौर के विभिन्न स्थानो पर स्वच्छता के लिये किये गये कार्यो का अवलोकन करते हुए, इंदौर की स्वच्छता से अभिभुत होकर इंदौर की भूर-भूरी प्रशंसा करते हुए, इंदौर की तर्ज पर स्वच्छता में कार्य करने की भी मंशा जाहिर की गई।

RELATED ARTICLES

Stay Connected

9,992FansLike
10,230FollowersFollow
70,000SubscribersSubscribe

Most Popular