Curfew in Khargone : फिर खरगोन में गोशाला मार्ग पर रात में हुआ पथराव, कर्फ्यू में नहीं मिली छूट

Curfew in Khargone : खरगोन शहर (Khargone) में कल रात एक बार फिर से शांति भंग करने का प्रयास किया गया।

Curfew in Khargone : खरगोन शहर (Khargone) में कल रात एक बार फिर से शांति भंग करने का प्रयास किया गया। बताया जा रहा है कि बीती रात करीब 12:30 बजे खरगोन में एक बार फिर तनाव भरा माहौल देखने को मिला है। दरअसल, यहां तालाब चौक से गोशाला मार्ग पर फिर से पथराव हुआ है। जिसके बाद यहां बड़ी संख्या में पुलिस बल पहुंचा और स्थिति को काबू करने की कोशिश की। जानकारी के मुताबिक, खरगोन में रामनवमी के दिन निकल रही शोभायात्रा के दौरान पथराव हुआ। जो अभी तक जारी है। इस घटना के बाद बिस्टान रोड पर करीम नगर स्थित अतिक्रमण कर बनी बेस्ट बेकरी के साथ कई जगहों पर बुलडोजर चलाया।

Must read : जो भगवान और भगवे दोनो पर पत्थर फेंके, वो भाई नहीं दंगाई है

बताया जा रहा है कि यहां 48 घंटे पहले लगाए गए कर्फ्यू के बाद भी बीती रात यानि मंगलवार रात प्रशासन की कार्रवाई में मोहन टाकीज क्षेत्र में दो होटल से करीब 15 संदिग्धों को अपनी गिरफ्त में लिया है। साथ ही तीन अन्य दुकानों का अतिक्रमण भी तोड़ा गया। बता दे, बीती रात को प्रशासन ने कर्फ्यू में सख्ती दिखाई। ऐसे में शहर में प्रवेश की सीमाएं भी प्रशासन द्वारा सील कर दी गईं है। इसके साथ ही बेवजह घूमने वालों के खिलाफ भी सख्ती की जा रही है।

गौरतलब है कि मध्यप्रदेश के खरगोन ज़िले में भी रामनवमी के पर्व पर जुलूस निकाला जाने वाला था, इस बात की जानकारी सभी लोगों को थी। जुलूस के निकलने से पहले ही दंगाइयो ने पूरी तैयारी कर ली थी। जुलूस के नज़दीक आते ही मासूमों पर पत्थर और पेट्रोल बम बरसाए गए , इनका दोष सिर्फ़ इतना ही था की इन लोगों ने मुस्लिम बस्ती के पास से जुलूस निकाला। सवाल ये उठता है कि – मुहर्रम पर निकाली जाने वाली ताजिया पर तो कभी हिंदू भाई-बहनो ने पत्थर नहीं बरसाए ?