छत्तीसगढ़ के स्कूलों में अंडा और सोयाबीन पर विवाद

0
19
Egg on soy beans focused on yolk background

रायपुर। छत्तीसगढ़ में अंडा और सोयाबीन को लेकर खींचतान हो रही है। भाजपा सरकार ने मिड-डे मील से अंडा हटा दिया था। कांग्रेस की सरकार आई, तो फिर शुरू कर दिया। करीब छह महीने बाद अब हंगामा हो गया है। भाजपा का कहना है कि न खाएंगे और न खाने देंगे। विरोध की शुरुआत कबीरपंथी वालों ने की है। वो कह रहे हैं कि अगर मिड-डे मील से अंडा नहीं हटाया गया, तो हम प्रदेश भर की सड़कें रोक देंगे। अपनी मांग को लेकर कवर्धा के कलेक्टर से मिले हैं। उनकी दलील है कि सोयाबीन देना ही है, तो सोयाबीन, दूध और केले से भी दिया जा सकता है। अंडा जरूरी नहीं है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बताया कि प्रदेश में करीब 40 फीसदी ब”ो कमजोरी से जूझ रहे हैं। उसे दूर करना हमारे लिए अहम है। भाजपा को सिर्फ राजनीति करना है। दूसरे संगठन भी उनके बहकावे में आ जाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here