सरकारी उत्पीड़न का शिकार हर कार्यकर्ता के लिये कानूनी लड़ाई लड़ेगी कांग्रेस: दिग्विजय सिंह

सिंह ने कहा कि अब तक समिति के सामने 50 से अधिक मामले अकेले दतिया जिले के आए है, जिनमें कांग्रेस नेता और कार्यकर्ताओं पर झूठे मुकदमे दर्ज किए गये हैं। जहां गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा कांग्रेस कार्यकर्ताओं को सबसे ज्यादा निशाना बना रहे हैं।

Indore: मध्यप्रदेश में कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं के खिलाफ लगातार बदले की भावना से दर्ज किये जा रहे झूठे प्रकरणों को लेकर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के निर्देश पर बनायी गई ‘‘प्रशासनिक अत्याचार प्रतिरोध समिति’’ की पहली बैठक प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह की अध्यक्षता में आज प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय के सभाकक्ष में संपन्न हुई।

बैठक को संबोधित करते हुए सिंह ने कहा कि जिस तरह सरकार कांग्रेस कार्यकर्ताओं से राजनैतिक दुश्मनी निकाल रही है वह पूरी तरह अन्यायपूर्ण है। कांग्रेस कार्यकर्ता इससे जरा भी भयभीत नहीं होगा, वह अकेला नहीं है, प्रदेश से लेकर तहसील स्तर तक उसे राजनैतिक आधार पर सिविल, रेवेन्यू और आपराधिक मामलों में फंसाकर जलील किया जा रहा है। यहां तक कि एक कांग्रेस कार्यकर्ता को जेल में सीवेज का पानी तक पिलाया गया। ऐसे हालात में समूची कांग्रेस उसकी लड़ाई लड़ेगी। उन्हें वैधानिक संरक्षण दिया जायेगा। तहसील स्तर से लेकर जबलपुर, इंदौर और ग्वालियर उच्च न्यायालयों में भी वरिष्ठ अधिवक्ताओं का उन्हें न्याय दिलाने के लिए सहयोग लिया जायेगा। सिंह ने यह भी कहा कि जिन लोगों ने संविधान की शपथ लेने के साथ निष्पक्षता से काम करने का संकल्प लिया था वे ही लोग आज भारतीय संविधान, न्याय और कानून के खिलाफ एकजुट होकर ऐसे अन्यायपूर्ण कार्यों के लिए प्रशासनिक अधिकारियों का भी सहयोग ले रहे हैं, जो न्यायोचित नहीं है।

सिंह ने कहा कि अब तक समिति के सामने 50 से अधिक मामले अकेले दतिया जिले के आए है, जिनमें कांग्रेस नेता और कार्यकर्ताओं पर झूठे मुकदमे दर्ज किए गये हैं। जहां गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा कांग्रेस कार्यकर्ताओं को सबसे ज्यादा निशाना बना रहे हैं। इन सभी शिकायतों को एकत्र कर कमलनाथ के नेतृत्व में कांग्रेस का एक प्रतिनिधिमंडल मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मिलेगा।

बैठक में सिंह ने प्रदेश भर के कांग्रेसजनों से आग्रह किया है कि वे उनके साथ हो रहे हर उत्पीड़न की जानकारी प्रदेश कांग्रेस कमेटी को उपलब्ध करायें, जिसके लिये जे.पी. धनोपिया के लिए अधिकृत किया गया है। बैठक में यह भी तय किया गया कि समन्वय समिति के सभी सदस्य संभागवार व जिलों में इस विषयक पत्रकार वार्ताएं आयोजित कर ऐसे अत्याचारों का प्रतिरोध करेंगे।

बैठक में प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष संगठन प्रभारी चंद्रप्रभाष शेखर, समिति के सदस्य पूर्व मंत्री प्रभुसिंह ठाकुर, पूर्व विधायक राजेन्द्र भारतीय, विधायकद्वय विनय सक्सेना और रामलाल मालवीय, प्रदेश कांग्रेस महामंत्री मीडिया प्रभारी के.के. मिश्रा, महामंत्री प्रकोष्ठों के प्रभारी जे.पी. धनोपिया उपस्थित थे।