कारम डैम के मामले पर शासन लगातार सक्रियता दिखा रहा है | प्रशासन लगातार जिम्मेदारी और संवेदनशीलता से कार्य कर रहा है। किसी भी प्रकार की अप्रिय स्थिति से निपटने के लिए प्रशासन पूरी तरह से तैयार है, हालांकि प्रशासन की प्राथमिकता किसी भी अप्रिय स्थिति को निर्मित नहीं होने देना है l वही बाँध को लेकर प्रधानमंत्री से दो मर्तबा बात हुई है। कारम डैम को लेकर मुख्यमंत्री का बड़ा बयान – बांध से सीपेज के कारण जो परिस्थितियां पैदा हुई है उस पर कल से ही मैं नजर रखा हुआ हूँ। हमारे दोनों मंत्री जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट और मंत्री राज्यवर्धन दत्तीगांव कल से ही बांध स्थल पर मौजूद हैं।

हमारे इंजीनियर विशेषज्ञों की टीम, कमिश्नर, कलेक्टर, प्रशासनिक सारे अधिकारी बांध स्थल पर और प्रभावित होने वाले क्षेत्र में कल से ही उपस्थित हैं। कल भी और आज भी मेरी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी से भी इस स्थिति के बारे में पूरी चर्चा हुई है। रुड़की के विशेषज्ञ डॉक्टर एनके गोयल से हम लगातार संपर्क में हैं। वह हमें गाइड कर रहे हैं। बांध सुरक्षा के राष्ट्रीय विशेषज्ञ उनसे भी हम लगातार संपर्क में है। उनका भी मार्गदर्शन में प्राप्त हो रहा है।

Also Read – इंदौर : 15 अगस्त पर खुला रहेगा सराफा बाजार, मनेगा आजादी का अमृत महोत्सव

भोपाल कंट्रोल रूम से सीएस और एसीएस, एसीएस जल संसाधन और एसीएस होम निरंतर स्थिति पर नजर रखे हुए हैं। हमारा प्रयास है, एक बाईपास चैनल बन जाए जिससे पानी बाईपास करके निकाला जा सके। कल से लगातार वह काम चल रहा है। लेकिन, कड़ी चट्टानों के कारण उसको पूरा करने में देर लग रही है।

जनता की सुरक्षा हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है और इसलिए हमारे भाई-बहन सुरक्षित रहें, जनता सुरक्षित रहे इसलिए 12 गांव धार जिले के और 6 गांव खरगोन जिले के हमने खाली कराए हैं। हम जनता के जीवन की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए जो उचित और बेहतर फैसला होगा उसे हम लेंगे। प्रभावित गांव जो खाली कराएं हैं, उन भाइयों बहनों से मेरी प्रार्थना है की कृपा कर प्रशासन का सहयोग करें, गांव में ना जाएं और राहत कार्य में प्रशासन जहां रख रहा है वहां जाने की कृपा करें।

स्थिति को नियंत्रित करने का हम बेहतर से बेहतर प्रयास कर रहे हैं। लेकिन आप सहयोग के बिना यह संभव नहीं है। एक साथ मिलकर सहयोग करें ताकि हम इस संकट से निपट सकें: बांध से सीपेज के कारण जो परिस्थितियां पैदा हुई है उस पर कल से ही मैं नजर रखा हुआ हूँ। हमारे दोनों मंत्री जल संसाधन मंत्री श्री तुलसी सिलावट और मंत्री श्री राज्यवर्धन दत्तीगांव कल से ही बांध स्थल पर मौजूद हैं।

हमारे इंजीनियर विशेषज्ञों की टीम, कमिश्नर, कलेक्टर, प्रशासनिक सारे अधिकारी बांध स्थल पर और प्रभावित होने वाले क्षेत्र में कल से ही उपस्थित हैं। कल भी और आज भी मेरी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी इस स्थिति के बारे में पूरी चर्चा हुई है। रुड़की के विशेषज्ञ डॉक्टर एनके गोयल से हम लगातार संपर्क में हैं। वह हमें गाइड कर रहे हैं। बांध सुरक्षा के राष्ट्रीय विशेषज्ञ उनसे भी हम लगातार संपर्क में है। उनका भी मार्गदर्शन में प्राप्त हो रहा है।

भोपाल कंट्रोल रूम से सीएस और एसीएस, एसीएस जल संसाधन और एसीएस होम निरंतर स्थिति पर नजर रखे हुए हैं। हमारा प्रयास है, एक बाईपास चैनल बन जाए जिससे पानी बाईपास करके निकाला जा सके। कल से लगातार वह काम चल रहा है। लेकिन, कड़ी चट्टानों के कारण उसको पूरा करने में देर लग रही है। जनता की सुरक्षा हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है और इसलिए हमारे भाई-बहन सुरक्षित रहें, जनता सुरक्षित रहे इसलिए 12 गांव धार जिले के और 6 गांव खरगोन जिले के हमने खाली कराए हैं।

हम जनता के जीवन की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए जो उचित और बेहतर फैसला होगा उसे हम लेंगे। प्रभावित गांव जो खाली कराएं हैं, उन भाइयों बहनों से मेरी प्रार्थना है की कृपा कर प्रशासन का सहयोग करें, गांव में ना जाएं और राहत कार्य में प्रशासन जहां रख रहा है वहां जाने की कृपा करें। स्थिति को नियंत्रित करने का हम बेहतर से बेहतर प्रयास कर रहे हैं। लेकिन आप सहयोग के बिना यह संभव नहीं है। एक साथ मिलकर सहयोग करें ताकि हम इस संकट से निपट सकें।