इस वर्ष के अपने अंतिम दौर में चल रही उत्तराखंड चार धाम यात्रा (Chardham yatra) में चरों धामों के कपाट बंद होने की तिथियां दशहरे के दिन पुरे धार्मिक विधि विधान से और शुभ मुहूर्तों के आंकलन के बाद घोषित कर दी गई है। ज्ञात्वय है कि उत्तराखंड के बद्रीनाथ-केदारनाथ और गंगोत्री-यमनोत्री को हमारे धर्म में चार धामों की संज्ञा दी जाती है, जिनके दर्शनों की हमारे देश और धर्म में विशेष मान्यता है। देश-विदेश से लाखों श्रद्धालु यहां अपनी उपस्थिति दर्ज करा कर खुद को कृतार्थ महसूस करते हैं।

Also Read-Jharkhand : फिर जलाई गई ‘Dumka’ की एक और बेटी, एकतरफा प्रेम में शादीशुदा युवक ने Petrol डाल के किया आग के हवाले

बद्री-केदार के कपाट बंद होने की तिथि

बद्री केदार मंदिर समिति के अध्यक्ष ने जानकारी देते हुए बताया कि श्री बदरीनाथ धाम के कपाट इस यात्रा वर्ष शनिवार 19 नवंबर को शाम 3 बजकर 35 पर बंद होंगे, जबकि श्री केदारनाथ धाम के कपाट इसी महीने 27 अक्टूबर प्रात: 8.30 बजे भैया दूज के अवसर पर बंद होंगे । ज्ञातव्य है की भगवान शिव का ज्योतिर्लिंग मंदिर केदारनाथ धाम, भगवान विष्णु के बद्रीनाथ धाम से कहीं अधिक ऊंचाई पर है, इसलिए पहले केदारनाथ धाम के कपाट बंद होते हैं, फिर उसके कुछ दिनों के बाद बद्रीनाथ धाम के कपाट बंद किए जाते हैं।

Also Read-केंद्रीय कर्मचारियों की दीवाली से पहले बढ़ी चमक, विभाग ने बोनस के जारी किए आदेश, मिलेगी इतनी राशि

गंगौत्री-यमनोत्री के कपाट बंद होने की तिथि

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार श्री गंगोत्री धाम के कपाट 26 अक्टूबर गोवर्धन पूजा के दिन 12 बजकर एक मिनट पर बंद किया जाना निश्चित हुआ है। इसके साथ ही यमुनोत्री धाम के कपाट भैया दूज 27 अक्टूबर को मध्यान अभिजीत मुहूर्त में शीतकाल हेतु बंद हो जायेंगे, जबकि श्री हेमकुंट साहिब लक्ष्मण मंदिर के कपाट 10 अक्टूबर को बंद किए जाएंगे।