तितली तूफान: उड़ीसा आंध्र परेशान| Butterfly storm: Orissa disturbed

0
andhra cyclone

उत्तरी आंध्र प्रदेश और दक्षिणी उड़ीसा में तितली तूफान ने अपना कहर ढाया हुआ हैै। चक्रवाती तूफान ने अपना कहर बरसा रखा है। यह तितली तूूफान उड़ीसा के तटीय तटों तक पहुंचने के बाद बंगाल की ओर बढ़ गया है। हालांकि इस समुद्री तूफान की चपेट में आकर एक मछुआरों की नाव डूब गई। जानकारी के मुताबिक इसमें पांच मछुआरे सवार थे, जिन्हें समय रहते बचा लिया गया है। इस तूफान से आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम जिले में 8 लोगों की मौत हो गई है।

via

इस तितली को देखते हुए मौसम विभाग ने 12 घंटों तक तूफानी हवाओं की चेतावनी जारी की है। उड़ीसा के खतरे वाले इलाकों से हटाकर तीन लाख लोगों को सुरक्षित जगह पर पहुंचाया गया है।

बताया जा रहा है कि तूफानी हवाएं 140 से 150 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से पहुंच रही है, मिली जानकारी के अनुसार गोपालपुर में सुबह साढ़े चार बजे 126 किमी प्रति घंटे और कलिंगपटनम में 56 किमी प्रति घंटे की गति से हवाएं दर्ज की गई।

via

इस तितली तूफान से बचने के कारण यह विभिन्न जिलों में एनडीआरएफ की 18 टीमें तैनात की हैं। इस तितली तूफान को लेकर उड़ीसा, आंध्र प्रदेश, बंगाल के कई इलाकों में तितली को लेकर रेड अलर्ट जारी कर दिया गया है और 3 लाख लोगों को महफूज़ जगहों पर पहुंचाया गया है।

हालांकि उड़ीसा सरकार ने तूफान के चलते 11 और 12 तारीख को स्कूल-कॉलेज बंद रखने का फैसला किया है। इसके अलावा तूफान से निपटने की तैयारियों का जायजा लेने के लिए उड़ीसा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने एक उच्चस्तरीय बैठक भी की है। उत्तरी आंध्र प्रदेश और दक्षिणी ओडिशा के तट पर ‘तितली’ के प्रभाव को देखते हुए कई ट्रेनों को रद्द किया गया है तो वहीं कुछ के रूट में बदलाव किया है।