डीआरआई की बड़ी कार्रवाई, 1.65 करोड़ कीमती 3.33 kg सोने का तस्कर आया हाथ

इंदौर जोनल यूनिट की DRI (Directorate of Revenue Intelligence) यानी राजस्व खुफिया निदेशालय रायपुर यूनिट ने रायपुर (छ.ग.) में 3.33 किलोग्राम सोने की तस्करी के लिए एक विदेशी मूल के व्यक्ति को गिरफ्तार किया, जिसकी कीमत ₹ 1.65 करोड़ थी।

1.कोरोना के चरम समय में भी सोने के तस्कर तस्करी नहीं रोक रहे हैं और डीआरआई अधिकारी विदेशी सोने की तस्करी को रोकने के लिए प्रतिबद्ध हैं। विशिष्ट खुफिया जानकारी के आधार पर, डीआरआई के अधिकारियों ने रायपुर आरपीएफ स्टाफ की सहायता से रायपुर रेलवे स्टेशन पर कोलकाता से नागपुर के लिए ट्रेन द्वारा विदेशी मूल के सोने की तस्करी करने वाले एक व्यक्ति को पकड़ लिया। उस व्यक्ति की गिरफ्तारी के बाद उसके पास से 3.33 किलोग्राम वजन की विदेशी चिह्नित सोने की छड़ें बरामद की गईं। सोने की छड़ें उसके कपड़ों के अंदर कमर पर बांधकर, कपड़े की बेल्ट से छिपाकर रखी गई थीं। उक्त विदेशी मूल की सोने की छड़ों के साथ पैकिंग सामग्री को सीमा शुल्क अधिनियम, 1962 के तहत जब्त कर लिया गया है।

2. मौजूदा मामले में अब तक सिंडिकेट के पांच सदस्यों की भूमिका सामने आ चुकी है। पूर्व में भी यह सिंडिकेट भारी मात्रा में विदेशी मूल के सोने की तस्करी में संलिप्त रहा है जिसके लिए हवाला चैनलों के माध्यम से भुगतान किया गया है। मामले में आगे की जांच की जा रही है। डीआरआई अधिकारी पश्चिम बंगाल में स्थित सिंडिकेट द्वारा विदेशी मूल के तस्करी के सोने की निरंतर आमद के खिलाफ खुफिया आधारित अभियान चला रहे हैं, जो बांग्लादेश के साथ भूमि सीमा पर काम करते हैं, और जो देश की वित्तीय सुरक्षा को खतरा है।

3. डीआरआई तस्करी रोधी के अपने काम के अलावा, आयात-निर्यात धोखाधड़ी का पता लगाने और जांच करने के अलावा, अवैध नशीली दवाओं के खतरे का मुकाबला करने के लिए भी प्रतिबद्ध है। इस शासनादेश के तहत चालू वित्त वर्ष में डीआरआई की इंदौर जोनल यूनिट के अधिकारियों ने विभिन्न अभियानों में विदेशी मूल के सोना, चांदी, तस्करी की सिगरेट और इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट, तस्करी के इलेक्ट्रॉनिक्स सामान, बिक्री से अर्जित नकदी के अलावा लगभग 8,300 किलोग्राम गांजा (भांग) जब्त किया है।