बालासाहेब नहीं होते तो हिंदुओं को पढ़नी पड़ती नमाज : शिवसेना

0
32
uddhav thackeray

शिवाजी और बालासाहेब ठाकरे स्मारक को लेकर सियासी हलचल तेज हो गई है। शिवसेना ने भाजपा की महाराष्ट्र सरकार पर निशाना साधते हुए पूछा कि वह सुप्रीम कोर्ट के सामने स्मारकों के मुद्दे पर अपना पक्ष रखने में असफल क्यों रही। शिवसेना ने कहा कि यह इस तथ्य के बावजूद हुआ कि सरकार चुनावों में जीत के लिए खरीद-फरोख्त करने जैसे अन्य मुद्दों पर कभी विफल नहीं होती है।

Balsaheb thakre

पार्टी की ओर कहा गया कि कुछ लोग पूछते हैं छत्रपति शिवाजी और बालासाहेब ठाकरे के स्मारक का क्या इस्तेमाल है? छत्रपति शिवाजी महाराज नहीं होते तो पाकिस्तान की सीमा तुम्हारी दहलीज तक आ गई होती और बालासाहेब ठाकरे नहीं होते तो हिंदुओं को भी नमाज पढ़नी पड़ता। पार्टी की ओर से कहा गया कि सुप्रीम कोर्ट ने एक बार फिर शिवाजी स्मारक का निर्माण रोक दिया है। इसका मतलब ये है कि सरकार स्मारक निर्माण को लेकर गंभीर
नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here