एक आतंकवादी जो 12,000 से अधिक स्मार्ट क्लासरूम राष्ट्र को समर्पित कर रहा है!

आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party (AAP)) के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल(Arvind Kejriwal) ने उनके पुराने साथी, पूर्व नेता कवि कुमार विश्वास(Kumar Vishwas) द्वारा किये दावे का जवाब देते हुए कहा

Arvind Kejriwal
Arvind Kejriwal

आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party (AAP)) के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल(Arvind Kejriwal) ने उनके पुराने साथी, पूर्व नेता कवि कुमार विश्वास(Kumar Vishwas) द्वारा किये दावे का जवाब देते हुए कहा कि एक व्यक्ति जिसे आतंकवादी तक कहा जा रहा हैं वो 12,000 से अधिक स्मार्ट क्लासरूम(12,000 smart classrooms) राष्ट्र को समर्पित कर रहा है। साथ ही उन्होंने कहा कि वह अंबेडकर और भगत सिंह के सपनों को पूरा करने के प्रयास कर रहें हैं और अपने इस प्रयास को आगे भी जारी रखेंगे।

गौरतलब हैं कि प्रसिद्ध कवि कुमार विश्वास ने दावा किया था कि अरविंद केजरीवाल पंजाब के सीएम बनना चाहते हैं या स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में खालिस्तान के पहले पीएम बनने का ख्वाब पाले बैठे हैं। शनिवार को कुमार विश्वास के इसी दावे का जवाब देते हुए अरविंद केजरीवाल ने कहा कि जिसे आतंकवादी तक कहा जा रहा हैं वो 12,000 से अधिक स्मार्ट क्लासरूम राष्ट्र को समर्पित कर रहा है। वह अंबेडकर और भगत सिंह के सपनों को पूरा करने के लिए प्रायसरत हैं

must read: ये है दुनिया की सबसे छोटी लड़की, देखें Jyoti Amge की तस्वीरें

केजरीवाल दिल्ली में 12,430 अत्याधुनिक कक्षाओं के शुभारंभ पर बोल रहे थे उन्होंने कहा कि जिसे वे आतंकवादी कह रहे हैं, उसने ऐसे स्कूल बनाए हैं जहां गरीब और अमीर लोगों के बच्चे एक साथ टेबल पर बैठकर पढ़ते हैं। अब अधिकारियों, न्यायाधीशों, रिक्शा चालकों और श्रमिकों के बच्चे एक ही डेस्क पर बैठकर एक साथ पढ़ाई करेंगे।

केजरीवाल ने देश में शिक्षा के बुनियादी ढांचे में सुधार को लेकर सभी सरकारों के समक्ष एक पेशकश करते हुए कहा कि कोई राज्य सरकार, चाहे वह भाजपा या कांग्रेस के नेतृत्व में हो, अगर अपने यहां शिक्षा के बुनियादी ढांचे में सुधार को लेकर गंभीर हैं और दिल्ली की शिक्षा व्यवस्था से प्रभावित हैं, तो हम उसके लिए दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया की सेवाएं उन्हें देने के लिए तैयार हैं। उन्होंने कहा था कि उनकी सरकार देश के कल्याण के लिए राजनीतिक विचारधाराओं को दरकिनार कर अन्य राज्यों को उनकी शिक्षा और स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे में सुधार करने में मदद करने के लिए गंभीर हैं।