Amitabh Bachchan का सोशल मीडिया पर वीडियो हो रहा वायरल, 2 हजार के नोट में लगा है GPS? 

सोशल मीडिया पर एक वीडियो जामकर वायरल हो रहा है। यह वीडियो किसी और का नहीं बल्कि अमिताभ बच्चन का है। आपको बताते है कि आखिर पूरा मामला क्या हैं।

जब शहर में नोटबंदी हुई थी, वो रात सभी को याद है। नोट बंदी के बाद जब नए नोट जारी किए गए तो बताया जा रहा था कि नए नोट में GPS लगा हुआ हैं, इसमें GPS, माइक्रोफोन या और कुछ लगा हुआ हैं। लेकिन हाल ही में सोशल मीडिया पर एक वीडियो जामकर वायरल हो रहा है। यह वीडियो किसी और का नहीं बल्कि अमिताभ बच्चन का है। आपको बताते है कि आखिर पूरा मामला क्या हैं।

लेकिन अब एक बार फिर से 200 के नोट का जिक्र हुआ है। सबसे खास बात की इसका जिक्र लोकप्रिय गेम शो कौन बनेगा करोड़पति के नए सीजन के प्रचार के वीडियो में ₹2000 की नोट के बारे में बताया गया। जो कि एक बार फिर से ₹2000 के नोट में जीपीएस होने की अफवाह का केंद्र बिंदु बना है। दरअसल पूरा मामला कुछ इस प्रकार है कि कौन बनेगा करोड़पति शो का नया सीजन आने वाला है जिस के प्रचार के वीडियो में ₹2000 के नोट का जिक्र हुआ है। वीडियो में अमिताभ बच्चन ने सवाल किया, जिसमें उन्होंने पूछा कि

प्रश्न-  GPS टेक्नोलॉजी होती है।

A.  टाइपराइटर           B. टेलीविजन
C.  सैटेलाइट              D. दो हजार का नोट

Must Read- Government Vacancy 2022 : बेरोजगार युवाओं के लिए खुशखबरी, MPPEB में इतने पदों पर निकली भर्ती

प्रश्न के सामने आने के बाद सामने बैठे प्रतियोगी ने लास्ट वाले ऑप्शन को चुनते हुए जवाब दिया कि ₹2000 का नोट। इस सवाल के बाद अमिताभ बच्चन कहते हैं कि क्या आप पूरी तरह से  कंफर्म है कि आपने सही जवाब चुना है, तब प्रतियोगी का जवाब होता है कि मैं क्या पुरे इंडिया को कंफर्म है। अमिताभ बच्चन ने बताया कि आपका उत्तर गलत है, अमिताभ बच्चन कहते है कि ज्ञान जहां से भी मिले ले लीजिए, लेकिन पहले उसकी जांच कर लीजिए।

 

अमिताभ बच्चन सामने बैठे प्रतियोगी को बोलते हैं कि आपका जवाब गलत है, तब प्रतियोगी ने कहा कि आप मजाक कर रहे हैं। जिस पर अमिताभ बच्चन ने कहा कि मैं मजाक क्यों करूंगा मजाक तो वह था जो आपने सच मान लिया। वीडियो के सामने आने के बाद लोग जमकर कमेंट कर रहे हैं।

जी हां ये बात बिल्कुल सत्य हैं कि जब 2000 के नोट जारी होने के बाद कहीं लोगों ने दावा किया था कि इसमें जीपीएस लगा हुआ है। लेकिन सब बिना किसी जानकारी और ठोस सबूत के मानगण्ड बाते कह रहे थे। जिसके बाद कई लोगों ने इसे सही मान लिया था, जिसके बाद यह बात पूरी तरह से अफवाह साबित हुई।