हिंदी दिवस पर बोले अमित शाह, ‘राजभाषा हिंदी राष्ट्र को एकता के सूत्र में पिरोती है’

हिंदी दिवस के अवसर पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बुधवार को देश को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा "राजभाषा हिंदी राष्ट्र को एकता के सूत्र में पिरोती है।

आज 14 सितंबर को हमारे देश में हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है। हिंदी हमारे देश की राष्ट्रिय भाषा है। देश के एक बहुत ही बड़े वर्ग के द्वारा हिंदी भाषा के माध्यम से ही विचारों का आदान प्रदान किया जाता है। देश के कई प्रमुख राज्यों की मातृभाषा हिंदी है। देश में बोले जाने वाली कई भाषाएं और बोलियां हिंदी भाषा से प्रत्यक्ष अथवा परोक्ष स्वरूप में प्रभावित हैं।

Also Read-Stock Market Tips : जानिए किन कंपनियों में हैं आज तेजी के आसार, Investment का ले सकते हैं जोखिम

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कही ये बात

हिंदी दिवस के अवसर पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बुधवार को देश को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा “राजभाषा हिंदी राष्ट्र को एकता के सूत्र में पिरोती है। हिंदी सभी भारतीय भाषाओं की सखी है। मोदी सरकार हिंदी सहित सभी स्थानीय भाषाओं के समानांतर विकास हेतु प्रतिबद्ध है। हिंदी के संरक्षण व संवर्धन में योगदान देने वाले महानुभावों को नमन करता हूँ।”

Also Read-MP Weather : मौसम विभाग ने फिर जारी किया ऑरेंज अलर्ट, इन जिलों में हो सकती है अतिवर्षा

ये भी कहा अमित शाह ने

केंद्रीय गृह मंत्री कहा, देश की भाषाई संपन्नता को ध्यान में रखते हुए संविधान निर्माताओं ने अलग से प्रावधान किया, जिसमें प्रारंभिक 14 भाषाएं रखी गईं। अब आठवीं अनुसूची में 22 भाषाएं हैं। सभी भाषाओं का अपना-अपना स्थान है। सभी भारतीय भाषाओं से समन्वय स्थापित करते हुए हिंदी ने जनमानस के मन में विशेष स्थान हासिल किया है। यही कारण है कि आजादी के आंदोलन में अनेक स्वतंत्रता सेनानियों ने हिंदी को संपर्क भाषा बनाकर आंदालेन की गति बढ़ाने का प्रयास किया।