Breaking News

अखिल विश्व को भारत की अनमोल देन है योग, शशींद्र जलधारी की कलम से….

Posted on: 19 Jun 2018 17:10 by krishnpal rathore
अखिल विश्व को भारत की अनमोल देन है योग,  शशींद्र जलधारी की कलम से….

21 जून बुधवार को सारे विश्व में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाएगा ! योग आज सारे विश्व में लोकप्रिय हो चुका है ! इसकी महत्ता और उपयोगिता को सभी देशों के लोगों ने स्वीकार कर लिया है ! शरीर , मन और चेतना को ऊर्जा देने वाली योग की शक्ति भारत की एक नायाब विरासत है ! योग, प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी की अखिल विश्व को अनूठी और अनमोल

Image result for मोदी जी योगvia
देन है ! श्री मोदी की सक्रिय पहल को मंजूरी देते हुए ही संयुक्त राष्ट्रसंघ द्वारा प्रति वर्ष २१ जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने का फैसला किया गया है ! योग दिवस अब समूचे विश्व में सालाना उत्सव बन चुका है ! भारतीय ज्ञान साधना के अनुपम उपहार योग पर एक रचना लिखने की कोशिश की है ! आप इसे पढ़ें और प्रेरणा ग्रहण करें !

योग शक्ति है भारत की एक अनूठी विरासत !
विश्व ने भी जान ली है इसकी अहमियत !
किसी मजहब से न जोड़ो इसको दोस्तों ,
नादान हैं वे जो करते योग की खिलाफत !

धार्मिक नजरिये से योग को न देखिये !
इसे तो स्वस्थ शरीर का मंत्र मानिये !
तंग दिल और सोच से करो न तुम विचार ,
अपनी सेहत के किये ही योग कीजिये !

आधुनिक सोच ने भी योग को अपनाया है !
इसकी ध्वजा को मोदी ने यू .एन. में फहराया है !
सबका हित और सुख का भाव इसमें है शामिल ,
इसके लाभों को किसी ने नहीं झुठलाया है !

योग में किसी धर्म की खिलाफत नहीं है !
किसी पूजा पद्धति का निषेध भी नहीं है !
तनाव रहित जीवन कौन नहीं चाहता ,
योग के विरोध का औचित्य नहीं है !

योग भारत में जन्मी अहम् जीवन पद्धति है !
शरीर स्वस्थ – सुन्दर रखने की अद्भुत शक्ति है !
योग को किसी मजहब के चश्में से न देखिये ,
यह आत्मिक शांति देने वाली अनूठी युक्ति है !

via

योग भारतीय ज्ञान साधना का अनुपम उपहार है !
इसमें दर्शन और विज्ञानं का मिलाजुला सार है !
अन्धविश्वास और कर्मकांड कतई नहीं है योग में ,
इसीलिए तो योग शक्ति पर फ़िदा सारा संसार है !

योग इसका है न उसका है, मानव मात्र का है !
नहीं किसी की है बपौती, यह तो सबका है !
रोगों का उपचार और बचाव भी है योग ,
नहीं तोडना इसका काम यह तो जोड़ता है !

हर मनुष्य को चाहिए जीवन में सुख – शांति !
शख्सियत में आती है योग से ही कांति !
तन – मन और आत्मा से होता साक्षात्कार ,
योग से जीवन आती सकारात्मक क्रांति !

बगैर धन के ही योग स्वस्थ बनाता है !
मन – शरीर और चेतना को ऊर्जा देता है !
मन का भटकाव रोकने की इसमें अद्भुत क्षमता ,
योग हर शख्स में सदविचार पैदा करता है !

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com