सातवां वेतन आयोग: कर्मचारियों की बेसिक सैलरी में होने वाला है इतना इजाफा, सितंबर से मिल सकता है लाभ

केंद्रीय कर्मचारी लंबे समय से अपनी सैलरी में और डीए में बढ़ोतरी का इंतजार कर रहे हैं. खबर के मुताबिक फिटमेंट फैक्टर में बढ़ोतरी की जा सकती है.

7th Pay Commission: लंबे समय से केंद्रीय कर्मचारी अपने महंगाई भत्ते में बढ़ोतरी का इंतजार कर रहे हैं. खबर आई है कि सरकार जल्द ही फिटमेंट फैक्टर बढ़ा सकती है. 3 अगस्त को होने वाली कैबिनेट की बैठक में इस बात पर निर्णय लिया जा सकता है. सरकार अगर इस पर मुहर लगा देती है तो 1 सितंबर से कर्मचारियों की सैलरी में बड़ी बढ़ोतरी देखी जा सकती है. इस बढ़ोतरी के बाद कर्मचारियों का न्यूनतम वेतन 18000 से बढ़कर 26000 हो जाएगा. जिसके हिसाब से बेसिक सैलरी में महीने में 8000 और सालाना 96000 की बढ़ोतरी होगी.

फिलहाल कर्मचारियों को 2.57 प्रतिशत के आधार पर फिटमेंट फैक्टर के तहत सैलरी दी जाती है. इसे बढ़ाकर अब 3.68 प्रतिशत करने की बात कही जा रही है. अगर ऐसा होता है तो न्यूनतम वेतन में 8000 रूपए बढ़ जाएंगे. इसके साथ भत्ते में भी बढ़ोतरी हो जाएगी क्योंकि यह बेसिक सैलरी से ही जुड़े होते हैं. अभी बेसिक सैलेरी 18000 रुपए है.

Must Read- CUET UG 2022: दूसरे दिन का स्लॉट 2 एग्जाम हुआ शुरू, देखें पेपर एनालिसिस और गाइडलाइन

अगर फिटमेंट फैक्टर 3.68 फ़ीसदी हो जाता है तो कर्मचारियों का मूल वेतन यानी बेसिक सैलरी 26000 रूपए हो जाएगी. अगर किसी कर्मचारी की न्यूनतम सैलरी 18000 रुपए है तो 2.57 फिटमेंट फैक्टर के अनुसार 46,260 रुपए मिलते हैं. अगर फिटमेंट फैक्टर 3.68 किया जाता है तो बेसिक सैलेरी 95,680 रुपए बनेगी.

केंद्रीय मंत्री मंडल की ओर से जून 2017 में सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों में 34 संशोधनों को मंजूरी दी गई थी. जिसके बाद एंट्री लेवल बेसिक पे में बढ़ोतरी करते हुए इससे 7000 से 18000 रुपए किया गया. जबकि अधिकतम सैलरी को 90 हजार से बढ़ाकर 2.5 लाख किया गया. क्लास 1 के अधिकारियों के लिए शुरुआती सैलरी 56,100 रुपए थी.