1300 किलो का भैंसा बना पुष्कर मेले की शान,ये हैं खासियत

राजस्थान का विश्वविख्यात पुष्कर मेला वैसे तो ऊंटों और घोड़ों के लिए प्रसिद्ध है इस मेले में देश भर से पशु-पालक घोड़े और ऊंट लेकर आते हैं। विदेशी पर्यटक मेले में फोटोग्राफी करते हुए नजर आते हैं।

0
57
pushkar

नई दिल्ली : राजस्थान का विश्वविख्यात पुष्कर मेला वैसे तो ऊंटों और घोड़ों के लिए प्रसिद्ध है इस मेले में देश भर से पशु-पालक घोड़े और ऊंट लेकर आते हैं। विदेशी पर्यटक मेले में फोटोग्राफी करते हुए नजर आते हैं। बल्कि राजस्थान की संस्कृति से रूबरू होने का प्रयास करते है। मेले में आने वाले सजे धजे ऊंट और घोड़े इतना लुभाते है कि लोग हर साल बड़ी संख्या में यहां पहुंचते है।

यहां लगी पशु मेले में मुर्रा नस्ल का भैसा आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। भैसा मालिक जवार लाल जांगिड़ ने कहा कि ये भैसा 1300 किलों का है। साथ ही उन्होंने बताया कि भीम की देखरेख में हर साल 1.5 रुपए खर्च होते है। उसकी हर दिन कि खुराक में एक किलो घी, आधा किलो मक्खन और काजू बादाम शामिल है।

साथ ही आपको ये भी बता दें इस मेले की खासियत ये है कि हर साल यहां पर बस पुरुष और महिलाएं ही नहीं बल्कि ऊंट भी सजाए जाते हैं और उन्हें रंग-बिरंगी पोशाक पहनाई जाती है। सभी ऊंट लोगो को आकर्षित करते है। आपको बता दें कि पुरुषों के लिए भी यहां प्रतियोगिता होती है और यहां सबसे लंबी किसकी मूछ है इसका लेखा-जोखा रखा जाता है।

यहां कठपुतलियों के शो, कई एरोबिक्स और रस्सी पर चलने वालों के शो, जादूगर का जादू और नाथ समुदाय को लोगों की कलाबाजियां देखने को मिलती हैं। इसी के साथ, कई राजस्थानी गायकों के परफॉर्मेंस भी होते हैं। इस मेले में आपको हर तरह का नजारा देखने को मिल जाता है। इस मेले में नृत्य देखने के लिए भी खास भीड़ जमा रहती है। साथ ही यहां ऊंटों से जुड़ी कई प्रतियोगिताएं भी होती हैं।

साथ ही ऊंट के दूध से बने कई व्यंजन भी चखने को मिलते हैं। इतना ही नहीं यहां ऊंटों की सफारी और पैराग्लाइडिंग जैसे एडवेंचर स्पोर्ट की भी सुविधा है। पुष्कर मेले में टूरिस्ट को आकर्षित करने के लिए भी काफी कुछ किया जा रहा है। साथ ही आपको बता दें कि यहां का मुख्य आकर्षण करने वाली चीज़ तुर्की की तरह हॉट एयर बलून राइड है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here