• ब्रेकिंग न्यूज़
    •   अभिनेता विनोद खन्ना का निधन
    •   भटके नौजवानों की होगी वापसी
    •    MCD में हार: AAP के पंजाब प्रभारी संजय सिंह ने दिया इस्तीफा
    •   ग्रेटर नोएडा: प्राइवेट युनिवर्सिटी की 21 वर्षीय छात्रा का अपहरण कर गाड़ी में किया गया रेप, FIR दर्ज
    •   सीरिया: दमिश्क एयरपोर्ट पर बड़ा धमाका होने की खबर।
    •   दिल्ली: अरविंद केजरीवाल ने आज सुबह 11.15 बजे CM आवास पर हार के लिए सभी विधायकों की बैठक बुलाई।
    •   दिल्ली: तिलक नगर सीट पर आम आदमी पार्टी उम्मीदवार की जीत।
    •   सीलमपुर से बीजेपी की उम्मीदवार शकीला बेगम जीतीं
    •    हार के बाद केजरीवाल के घर बैठक,सिसोदिया और गोपाल राय भी मौजूद,,EVM पर हो रही है चर्चा
    •   अगर बीजेपी जीतती है तो सीएम अरविंद केजरीवाल को अपना इस्तीफा देने के लिए तैयार रहना चाहिए: मनोज तिवारी,
    •   दिल्ली में दो सीटों पर नतीजे आए, खानपुर और मदनगीर में बीजेपी को जीत।
    •   उत्तरी दिल्ली MCD रुझान- भाजपा- 71,कांग्रेस-14,आप-16,अन्य-2
    •   उत्तरी दिल्ली में बीजेपी 72 सीट से आगे, आप 18, कांग्रेस 13
    •   दिल्ली नगरपालिका चुनाव में बीजेपी 165 सीटों पर आगे
    •   दक्षिणी दिल्ली के टैगोर गार्डन से बीजेपी प्रत्याशी आगे।
    •   पूर्वी दिल्ली की 63 सीटों में से 41 पर बीजेपी आगे चल रही है।
    •   उत्तरी दिल्ली: 104 सीटों में 70 पर बीजेपी आगे चल रही है।
    •   पूर्वी दिल्ली की झिलमिल सीट से आम आदमी पार्टी की निशा शर्मा आगे।
    •   एमसीडी की 270 सीटों के रुझान सामने आए, तीनों निगमों में बीजेपी को बहुमत।
    •   पूर्वी दिल्ली की सभी सीटों के रुझान सामने आए, बीजेपी को बहुमत। कांग्रेस-आप 12-12 सीटों पर आगे।

मध्य प्रदेश का ऐतिहासिक शहर, ग्वालियर

img
मध्य प्रदेश का ऐतिहासिक शहर, ग्वालियर Ghamansan Editor

एक घातक रोग से उसे ठीक करनेवाले एक महान संत ग्वालिपा के नाम से इस शहर का नामकरण किया।

मध्यप्रदेश। प्राचीन राजधानी का यह शहर, महान राजवंशों का उद्गम स्थल और वीरता की विरासत रहा है। इस शहर के नाम की कहानी 8 वीं सदी से है, जिसके अनुसार प्राचीन काल में सूरज सेन नामक मुखिया ने इस शहर की स्थापना की और एक घातक रोग से उसे ठीक करनेवाले एक महान संत ग्वालिपा के नाम से इस शहर का नामकरण किया। महलों, मंदिरों और स्मारकों के शहर ग्वालियर पर प्रतिहार, कच्छवाह और तोमर जैसे महान राजपूत वंशों के शासकों ने शासन किया।स्वतंत्र भारत के गठन तक यहां सिंधियां वंश की शाही राजधानी की परंपरा जारी रही। यह हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत के महान गायक तानसेन की भी भूमि रही है। ग्वालियर को अद्वितीय और कालातीत बनानेवाले गौरवशाली अतीत के भव्य स्मृति चिन्हों को पूरी देखभाल के साथ संरक्षित किया गया है।ग्वालियर के प्रमुख पर्यटक स्थलों में निम्नलिखित स्थान शामिल है।

मन मंदिर पैलेस:मन मंदिर महल ऐतिहासिक महत्व का स्थान है। इससे कई हृदय स्पर्शी कहानियाँ भी जुडी हुई हैं। यह हिंदू वास्तुकला के साथ मिश्रित मध्ययुगीन वास्तुकला का अच्छा उदाहरण है। इस संरचना में चार मंजिलें हैं जिसमें से दो मंजिलें भूमिगत हैं।तानसेन का मकबरा:तानसेन स्मारक जिसे तानसेन की कब्र भी कहा जाता है, ग्वालियर का एक प्रमुख स्मारक है। तानसेन को उनके गुरु मुहम्मद गौस के साथ यहाँ दफनाया गया था। तानसेन अकबर के दरबार के प्रसिद्ध संगीतकार थे। वे हिंदुस्तानी संगीत के बड़े दिग्गज थे। वे अकबर के दरबार के नौ रत्नों में से एक थे। उनके गुरु सूफी संत मुहम्मद गौस थे।जय विलास पैलेस:जय विलास महल आज भी सिंधिया राजवंश और उनके पूर्वजों का निवास स्थान है। इसके एक भाग का उपयोग आजकल संग्रहालय की तरह किया जाता है। इसका निर्माण जीवाजी राव सिंधिया ने 1809 में किया था। लेफ्टिनेंट कर्नल सर माइकल फ़िलोस इसके वास्तुकार थे।जय विलास संग्रहालय: यह स्मारक, यह शहर तात्या टोपे, झांसी की रानी लक्ष्मी बाई और कुछ सिंधिया राजकुमारों जैसे कई स्वतंत्रता सेनानियों के स्मारकों से भरा है। ये सभी एक गौरवपूर्ण अतीत की याद दिलाते हंं और साथ ही देश के सम्मान को बनाए रखने में ग्वालियर के स्थान को दर्शाते है।

 

Posts Carousel