• ब्रेकिंग न्यूज़
    •   रिवर फ्रंट को लेकर समीक्षा बैठक कर रहे है सीएम योगी
    •   लखनऊ : गोमती रिवर फ्रंट पर पहुंचे सीएम योगी आदित्यनाथ
    •    मणिपुर : पर्यटकों की बस दुर्घटनाग्रस्त, 8 लोगों की मौत
    •   लखनऊ: आज सुबह 11 बजे सीएम योगी आदित्यनाथ गोमती रिवरफ्रंट का निरीक्षण करेंगे।
    •   मणिपुर: सेनापति जिले में टूरिस्ट बस पलटी, 8 की मौत।
    •   महाराष्ट्र: उस्मानाबाद से सांसद रविंद्र गायकवाड़ के समर्थन में आज शिवसेना ने इस इलाके में बंद का ऐलान किया।
    •   मुरादाबाद: घर के फंक्शन में बीफ इस्तेमाल करने के लिए परिवार ने पुलिस से मांगी मंजूरी, पुलिस ने इनकार किया।
    •   CBFC चेयरपर्सन पहलाज निहलानी और केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू आज लॉन्च करेंगे CBFC ऑनलाइन सर्टिफिकेशन।
    •   तमिलनाडु: 3 महिलाओं ने गाड़ी से कोयंबतूर से लंदन की यात्रा शुरू की।
    •   पंजाब: गुरदासपुर में BSF जवानों ने पहाड़ीपुर पोस्ट के पास एक पाकिस्तानी घुसपैठिये को ढेर किया। (ANI)
    •   दिल्ली: देर रात निरंकारी कॉलोनी के पास बस पलटी। 12 गंभीर रूप से घायल।
    •   उत्तरप्रदेश : बूचड़खाने बंद होने के विरोध में आज से मांस कारोबारियों की बेमियादी हड़ताल
    •   ईरान ने 15 अमेरिकी कंपनियों पर लगाई पाबंदी
    •   BCCI अधिकारियों के लिए COA ने जारी किए सात सूत्री निर्देश
    •   नजीब मामले में आज छात्रों की याचिका पर पटियाला हाउस कोर्ट में होगी सुनवाई
    •   पंजाब : गुरदासपुर में BSF जवानों ने एक पाकिस्तानी घुसपैठिए को मार गिराया
    •   तेलंगाना: ऐक्सपायर्ड दवाई खाने से 12 बच्चे बीमार पड़े।
    •   दिल्ली : निरंकारी कॉलोनी के पास बस पलटी, 12 लोग घायल
    •   चीन के युनान प्रांत में भूकंप के झटके, 5.1 रही तीव्रता
    •    लखनऊ : सुबह 11 बजे गोमती रिवर फ्रंट जाएंगे सीएम योगी आदित्यनाथ

ब्रेकिंग न्यूज़

Entertainment

सबका मत

  • क्या सीएम योगी की घोषणाओं का जमीनी स्तर पर असर दिख रहा है?

    Yes NO

राशिफल

शेयर बाजार

विज्ञापन

संपादकीय

  • सरकारी कामकाज के सिलसिले में जब इस बार बुरहानपुर का दौरा लगा तो मन में इंदु सँडर्सन की प्रसिद्द पुस्तक "The Twentieth wife "  के अनेक सफ्हे कौंध रहे थे| दरअसल यह प्रसिद्द पुस्तक इंदु जी ने मुमताजमहल और ताजमहल बनने की कहानी पर लिखी है| इंदु जी प्रसिद्द इतिहासकारा लेखिका हैं और इस किताब में उन्होंने बुरहानपुर में मुमताज की मृत्यु और फिर शाहजहां के द्वारा ताजमहल बनवाये जाने को तफ्सील से बयां किया है| लेकिन बुरहानपुर की प्रसिद्धि के पीछे यही एक दास्ताँ नहीं है बल्कि अनेक और भी ऐतिहासिक तथ्य उसे विश्व प्रसिद्द बनाते हैं , ये मुझे वहां के कलेक्टर और मेरे अच्छे मित्र श्री दीपक सिंह ने बताई जो इन दिनों इसी विषय पर कॉफी टेबल बुक नुमा पुस्तक लिखने में मशगूल हैं।
     
    दरअसल बुरहानपुर में सभ्यता के प्रसार का सिरा महाभारत कालीन यदुवंशियों तक जाता है और कहते हैं की यहाँ स्थित असीरगढ़ के दुर्ग का निर्माण तब का ही है| बहरहाल मध्यकाल में इस स्थल पर फारूकी साम्राज्य का अधिपत्य था जिसे अकबर ने युद्ध कर अपने अधीन किया , और तब से ही मुग़ल ये जान गए थे की दक्षिण की विजय का यह महत्वपूर्ण पड़ाव है| इसी कारण जहांगीर से ले कर औरंगजेब तक मुग़ल शहजादे यहाँ गवर्नर नियुक्त किये जाते थे| कहते हैं की शाहजहां और उसकी प्रिय बेगम मुमताज को ये जगह बेहद पसंद थी , और इसी स्थान पर स्थित "आहुखाने" ( मृग विहार ) में उसके मृत शरीर को तब तक रखा गया जब तक कि उसकी कब्र पर स्थित विश्वप्रसिद्ध मकबरे का निर्माण नहीं हो गया जिसे हम आज ताजमहल के नाम से जानते हैं| शाहजहां को ये जगह इतनी पसंद थी कि जब उसे यहाँ से हटा कर कांधार का गवर्नर बनाया गया तो उसने नई जगह जाने से इंकार कर दिया , आज भी हममे  से कुछ बिगड़ैल अफसर ऐसी हरकतें करते हैं| बहरहाल ताज महल पहले यहीं बनना तय हुआ था , पर बाद में संगमरमर की उपलब्धता और कुछ तकनीकी दिक्कतों के चलते इसे आगरा में राजा जयसिंह से स्थान लेकर बनाया गया जिसके बदले जयसिंह को यहाँ जगह दी गयी , आज भी बुरहानपुर में जयसिंहपुरा स्थान है|

    इन मुग़ल कालीन शासकों  के अलावा इस जगह में विश्व प्रसिद्द कवी और भक्ति काल के प्रसिद्द विचारक रहीम यानि अब्दुल रहीम खानखाना भी बीस वर्षों से अधिक रहे| रहीम कितने शानदान सेनापति और बेजोड़ प्रशासक थे ये आप शाही किले कि सैर करके ही जान पाते हो| कहते हैं कि उस समय ही रहीम ने बुरहानपुर के लिए अंडर ग्राउंड वाटर सिस्टम आधारित पेयजल व्यवस्था का प्रबंध कर दिया था जो बुरहानपुर के अलावा ईरान में ही थी और उस पर भी मज़ेदार बात ये कि इस सिस्टम से आज भी बुरहानपुर के लोग पानी पी रहे हैं जब कि ईरान में यह सिस्टम अब ख़राब हो चूका है| शाही महल के खूबसूरत दीवाने आम और  ख़ास के अलावा हमाम के इन्तिज़ामात देख के आप दंग रह जाते हो जहाँ उस ज़माने में मुमताज और उनजैसी बेगमों के लिए गरम और ठन्डे पानी के मिश्रित और इत्र से सुगन्धित जल के स्नान का प्रबंध  था , ये सब विवरण बता रहे इतिहास के प्रोफ़ेसर श्री फलक ने मुझे जब ये बताया कि इसके अलावा आम लोगों के लिए भी शहर में एक अलग हमाम बनाया गया था तो मैं यह सोचे बिना न रह सका कि हुक्मरानों के अलावा आम जनता का इतना सोचने वाला शासक कोई कविहृदय ही हो सकता है , क्या ही अच्छा हो कि हुक्मरानों का शायर या कवि होना अनिवार्य कर दिया जावे | हमाम की दीवारों पर बनी चित्रकारी ब्रश से नहीं बल्कि चाकू से छील कर रंगों के बीच उकेरी गयी है |

    नगर के बीच में ही दरगाहे हकीमी है जो बोहरा समाज के आदि धर्मगुरु हकीमुद्दीन साहब की है जो औरंगजेब के समकालीन थे , इनकी ही वंश परंपरा के वर्तमान धर्मगुरु बुरहानुद्दीन साहब हैं| दरगाह में आज भी सैकड़ों लोग अनेक बीमारियों  से निजात पाने माथा टेकने आते हैं|
     कहते हैं सिखों के अंतिम धर्मगुरु श्री गुरु गोविंदसिंह जी भी नांदेड़ जाते समय कुछ दिन यहाँ रुके थे | आपको पता ही होगा की नांदेड़ में ही उनका निर्वाण हुआ था और तब ही उन्होंने कहा था की अब कोई व्यक्ति सिख समाज में गुरु नहीं होगा बल्कि गुरूग्रथ साहब ही चिरंतन गुरु होंगे| यहाँ रुकने के दौरान उन्होंने अपनी देखरेख में ग्रन्थ साहब का लेखन करवाया और उनके दस्तखतसुदा ग्रन्थ साहब आज भी यहाँ की गुरुद्वारा में सुरक्षित है जिसे गुरु की जयंती में आम लोगों के दर्शनार्थ रखा जाता है| दीपक सिंह कहते हैं " क्या पता यह बड़ा निर्णय की अब के बाद समाज में ग्रन्थ साहब ही गुरु होंगे गोविन्द सिंह जी ने बुरहानपुर के प्रवास के दौरान ग्रन्थ लेखन के दौरान ही लिया हो"|

    राजा जयसिंह जिन्होंने अपनी जमीन अपने मित्र शाहजहां को ताजमहल बनाने के लिए दी थी , उनका इंतकाल भी बुरहानपुर में ही हुआ था और उनकी छतरी आज भी यहाँ बनी है| कहते हैं शिवाजी से मुग़ल शासकों के व्यवहार से वे बहुत आहत थे| तो इतनी प्रसिद्द जगह का अवसान कैसे हो गया ? कहते हैं न की समय का चक्र ऐसे ही घूमता है , कपडे के व्यवसाय के लिए प्रसिद्द इसके कारीगरों को इंग्लैंड की मशीन निर्मित वस्त्र प्रणाली ने बहुत चोट पहुचाई| इसके बाद अगला कुठाराघात हुआ और सूरत के बजाय अंग्रेजों ने मुम्बई के बंदरगाह को निर्यात के लिए उपयुक्त पाया और सूरत से अटूट बंधन में बंधे बुरहानपुर के व्यवसाय की कमर टूट गयी फिर रही सही कसर  पूरी कर दी रेल लाइन ने जिसमे बुरहानपुर मुबई कलकत्ते के बीच था ही नहीं| पर ये सब पुरानी बातें पीछे छोड़ बुरहानपुर फिर प्रगति के पथ ओर बढ़ रहा है|

    आनंद शर्मा (आय ए एस)

                     प्रतिक्रिया के लिए
       editor@ghamasan.com पर मेल करे

Tenders


सोशल मीडिया से