Breaking News

सहारनपुर हिंसा: धारा 144 लागू, इंटरनेट-मोबाइल मैसेज पर रोक CBSE Result 2017: हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ SC जा सकती है सरकार इंस्पेक्टर की पत्नी मर्डर: 'उनसे परेशान हूं, मुझे पकड़ो और लटका दो' दामाद की हत्या कराने वाले सास-ससुर अरेस्ट, जल्द ही मां बनने वाली है बेटी IT ने पकड़े 400 बेनामी सौदे, 600 करोड़ की संपत्तियां भी कीं कुर्क मोदी सरकार के 3 साल, जश्न से क्यों दूर रहेंगे राजग नेता? जकार्ता में बस टर्मिनल पर आत्मघाती विस्फोट, तीन पुलिसकर्मियों की मौत और 10 घायल अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने किम जोंग को क्यों बताया 'पागल आदमी' जेटली बोले- सेना युद्ध जैसे क्षेत्र में फैसले लेने के लिए स्वतंत्र जाधव मामले में संसदीय समिति ने पाकिस्तानी सरकार को लगाई लताड़ ईवीएम में छेड़छाड़: चुनाव आयोग का चैलेंज कबूलने से कतरा रहे राजनीतिक दल जो सभी सरकारों ने 70 साल में नहीं किया, वह मोदी सरकार ने तीन साल में कर दिखाया : अमित शाह जम्मू-कश्मीर: शोपियां और श्रीनगर में आतंकी हमले, ग्रेनेड हमले में चार घायल भारतीय पोस्ट उड़ाने का दावा करने वाला PAK का वीडियो फेक: इंडियन आर्मी डिफेंस सेक्टर में मोदी सरकार देगी 20 अरब डॉलर के ऑर्डर खत्म हुआ FIPB, नोएडा-ग्रेटर नोएडा मेट्रो रेल को कैबिनेट की मंजूरी बीएसएनएल ने लॉन्च की सैटेलाइट फोन सेवा GST के फायदे जानते हैं आप? इन वस्तुओं-सर्विसेज पर घटेगा टैक्स, होंगी सस्ती अभिजीत 'बैन' : गुस्साए सोनू ने छोड़ा ट्विटर Sachin Premiere: फिल्‍म से पहले सुपरहिट रहा सचिन का प्रीमियर, पहुंचे शाहरुख, आमिर, अमिताभ स्टार फुटबॉलर मेसी की 21 माह की सजा बरकरार कॉमेडी अवतार में दिखे शोएब और वसीम अकरम, VIDEO वायरल

क्रिकेट न्यूज़

संपादकीय

कविता लिखने वाले किसी साहब को देखा है कभी आपने ? साहब का यह अलौकिक रूप बडा अविश्वसनीय सा होता है ,साक्षात कविता की प्रतिमूर्ति ,सरस्वती का अनन्य उपासक ,फूल पत्तियाँ और तारो की बहकी बहकी बातें  ,खोया खोया चाँद टाईप की गँभीर दृष्टि ,आप को लगेगा आपको नही ,आप के पीछे की दीवार को तक रहे है ,दो दिन की बडी दाढ़ी ,सच्चा साहब कभी भी शेव करना नही भूलता ,पर अपने कवि अवतार मे वो ऐसा करना जानबूझकर कर भूल जाता है ,बढ़ी हुई दाढ़ी उसे अतिरिक्त अाभा प्रदान करती है ,वह ऑफ़िस जाकर भी ऑफ़िस नही जाता ,सरकारी काग़ज़ों पर कवितायें करता हुआ वह और भी ज़्यादा दिव्य हो जाता है ,वह गंदे ऑफिस मे बैठकर साफ स्वच्छ धरती की बाते करता है ,बुक शैल्फ मे बैठे रविन्द्र नाथ टैगोर और कालीदास शरमाने लगते है ,रिश्वत लेते हुये वो सदाचार पर टीका करता है और अपने बाबुओं के इनक्रिमेंट बंद करते समय मानवता पर भाषण पेलना नही भूलता!
http://nishpakshjanavlokan.in/wp-content/uploads/2017/05/now-rabindranath-tagores-postmaster-to-be-made-in-bengali.jpgसाहब की शामें भी कविताने लगती हैं ,प्रकृति उसके ड्राइंग रूम मे उतर आती है ,पहाडो की बर्फ व्हिस्की के गिलासो मे तैरने लगती है ,और झरने उसकी क़लम से बहने लगते है ,उसे इलाके के कवियो संग किल्लोल करना सुहाने लगता है  ,फोकट की व्हिस्की के चक्कर मे उसे घेरे फोकटिये कवियों का यह झुंड उसे यह भरोसा दिलाने मे पूरी ताकत लगा देता है कि वो वाकई कवि हो चुका है ,उसका रचा कालजयी है ,जीते जी अमर होने के आकाक्षीं ,घाघ साहब के भीतर बैठा भोला कवि उनके सामूहिक भुलावे मे आ जाता है ,मान लेता है कि उसके बारे मे जारी वक्तव्य सही है ! कवियों की मोहर लगते ही वह और अधिक उत्साहित हो साहित्य को पटककर उस पर चढ़ बैठता है ,और फिर तो हर विषय पर ,क़िलों के भाव से कवितायें सृजित होती है ,ये कवितायें इतनी मारक होती है कि भारतीय सेना चाहे तो उन्हें बोफ़ोर्स तोप के गोलों की जगह इस्तेमाल कर ले ,वह कविता ओढ़ता है ,कविता बिछाता है ,और बात भी कविता मे कविता की ही करता है ! अब ये बात अलग है कि वो जिसे कविता समझता है वो अनगढ सी तुकबंदियो से ज्यादा कुछ नही होती ,पर चूँकि वे साहब की लिखी होती है इसलिये धुरंधर कवियों की कविताओं से ज़्यादा इज़्ज़त पाती है , साहब को रोका जाना अत्यन्त कठिन होता है ,कुसंग के कारण उसकी यह व्याधि और बढ़ती है ,उसे लगता है कि अच्छे कवि को विचारपूर्वक कविता करना चाहिये सो लगे हाथो वो विचारक भी हो जाता है ,अब साहब ग़रीबी ,लैंगिक असमानता ,पर्यावरण जैसी गंभीर समस्याओं से भी जूझता है ,बाप के टाईम के धर्मयुग ,कादम्बनी जैसी पुरानी पत्रिकायें ,इस नेक इरादे मे उसकी मदद करती है ,मर चुके कवि अपनी कवितायें चुराने का बुरा भी नही मानते और इस तरह साहब का कवि रूप परिष्कृत होने लगता है.  राहत की बात इतनी सी है कि ये सिलसिला ज़्यादा दिनों तक चलता नही ,कवितायें साहब की साहबी को गँभीर रूप से प्रभावित करने लगती है ,जैसे जैसे कवि ज़्यादा जगह घेरने लगता है ,साहब मे से साहब कम होने लगता है ,साहबी कम होने का असर उसके रुतबे पर पड़ता है ,आवक गड़बड़ाती है ,इससे साहब की बीबी सबसे पहले चौंकती है ,कवि होता पति उसे नागवार गुज़रता है ,वो साहब की पत्नी ही बनी रहना चाहती है ,इसलिये वो तय करती है कि साहब अब कविता नही करेगा ,उसके सख़्त तेवर साहब के सर चढ़े कवि का भूत उतारने के लिये काफी होते है ,हर साहब की तरह वो भी अपनी बीबी से हार जाता है ,अपनी कविताओं को पुराने प्रेमपत्रों की तरह सहेज कर ,घर के किसी अंधेरे,तिरस्कृत कोने मे दफ़न कर देता है ,कविता का ग्रहण समाप्त होता है और वह एक बार फिर से दमकते सूरज सा साहब हो जाता है!  साहब का कवि होना बडी आकस्मिक और क्षणिक सी घटना है ,ज़्यादा वक्त तक कवि बना नही रह पाता वो ,इसलिये जब भी किसी साहब के कवि होने का समाचार मिले तो उसे फटाफट देख आईये पता नही आप को अपनी ज़िंदगी मे फिर कभी ऐसा मौक़ा मिले ना मिले!

मुकेश नेमा

 

 

  प्रतिक्रिया के लिए
editor@ghamasan.com पर मेल करें

Save

Save

Save

Save

सबका मत

हां
नहीं

बॉलीवुड

राशिफल

मेष (Aries) राशि

आज आपके उपर गणेशजी के आशीर्वाद रहेंगा, इसलिए दिन भर मानसिकरुप से स्वस्थ रहेंगे। पारिवारिक जीवन सुखी रहेगा। साथ में प्रवास का और सुरुचिपूर्ण...

वृष (Taurus) राशि

आज दिनभर आनंद मन पर छाया रहेगा। अपने कार्य में व्यवस्थितरुप से आप आगे बढा पाएंगे और योजना के अनुसार कार्य भी कर पाएंगे।...

मिथुन (Gemini) राशि

गणेशजी कहते हैं कि व्यापारी-वर्ग के लिए आजका दिन शुभ है।

कर्क (Cancer) राशि

आज आप संभलकर चलिएगा। शारीरिक स्फूर्ति और मानसिक प्रसन्नता बनाए रखने के लिए आज कष्ट का अनुभव होगा। छाती में पीडा अथवा अन्य विकार...

सिंह (Leo) राशि

आपके प्रत्येक कार्य में आत्मविश्वास छलकता हुआ दिखेगा ऐसे गणेशजी के आशीर्वाद हैं। आर्थिक योजनाएं भी सरलतापूर्वक बना सकेगें। शारीरिक तथा मानसिक रुप से...

कन्या (Virgo) राशि

मन को आज भावना के प्रवाह में अधिक न बहने दीजिएगा। भ्रांति का निराकरण करना अनिवार्य है। किसी के साथ उग्र चर्चा और झगडे़...

तुला (Libra) राशि

नए कार्य का प्रारंभ न करने की गणेशजी सलाह देते हैं। आप का मन वैचारिक स्तर पर अटका सा रहेगा, जिससे मनोबल की दृढता...