उत्तर प्रदेश (UP) के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस की पॉलिसी के तहत रिश्वत लेने वाले एक डिप्टी एसपी को हवलदार बनाने का ऐतिहासिक फैसला लिया है। उत्तर प्रदेश के रामपुर जिले के डिप्टी एसपी विद्या किशोर शर्मा को रिश्वत लेते हुए दिखाने वाला एक वीडियो सोशल मिडिया पर वायरल हुआ था, जिसके अधिकारीयों की जानकारी में आने के बाद मामला मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तक पहुंचा और सीएम योगी आदित्यनाथ के द्वारा डिप्टी एसपी को हवलदार के रूप पद से अवनत कर दिया गया।

Also Read-Mi की जारी है स्मार्टफोन क्लीयरेंस सेल, 3,999 रुपये से शुरू कीमतों में खरीदें Redmi के ये शानदार स्मार्ट फोन्स

इस मामले में हुआ भ्र्ष्टाचार

2021 में रामपुर में एक महिला ने पुलिस में की शिकायत में ये आरोप लगाया था कि स्वामी विवेकानंद अस्पताल के संचालक विनोद यादव और तत्कालीन इंस्पेक्टर रामवीर यादव ने उसके साथ गैंगरेप किया है। आरोप है कि इस मामले में पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की, जबकि इस मामले में पांच लाख की रिश्वत लेते हुए रामपुर जिले के डिप्टी एसपी विद्या किशोर शर्मा का एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसके अधिकारीयों के माध्यम से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तक पहुंचने के बाद यह कार्यवाही अस्तित्व में आयी।

Also Read-Jharkhand के मुख्यमंत्री Hemant Soren पर कसा अब ईडी ने शिकंजा, समन भेजकर पूछताछ के लिए कल किया तलब