Breaking News

कैलाश विजयवर्गीय की खामोशी टूटने का इंतजार | Waiting to breakdown of kailash vijayvargiya silence

Posted on: 06 Apr 2019 18:58 by Surbhi Bhawsar
कैलाश विजयवर्गीय की खामोशी टूटने का इंतजार | Waiting to breakdown of kailash vijayvargiya silence

इंदौर, राजेश राठौर। सुमित्रा महाजन के चुनाव लड़ने से मना करने के बाद अब कैलाश विजयवर्गीय की खामोशी टूटने का इंतजार सभी कर रहे हैं। ताई के अलावा लोकसभा चुनाव लड़ने वाले संभावित नामों में कैलाश विजयवर्गीय का नाम सबसे ऊपर है।

हालांकि वह पश्चिम बंगाल में व्यस्त है। इस कारण उनके चुनाव लड़ने की संभावनाओं को पहले ही खारिज किया जा चुका था। पर अब बदली परिस्थितियों में लगता है कि विजयवर्गीय चुनाव लड़ सकते हैं। क्योंकि खुद विजयवर्गीय ने हाईकमान से कहा था कि वह सिर्फ एक दिन इंदौर में नामांकन फॉर्म भरने जाएंगे और जीतकर बता देंगे। तब हाईकमान ने मना कर दिया था। अब यदि मालिनी गौड़ और रमेश मेंदोला की बात करें तो दोनों विधायक हैं। विधायकों को चुनाव लड़ने पर पार्टी पहले ही इनकार कर चुकी है। ऐसी स्थिति में जो नए दावेदार हैं। उन पर पार्टी दांव नहीं लगा सकती। कहा जा रहा है कि ताई को टिकट भले ही नहीं मिला हो लेकिन उम्मीदवार घोषित करने के मामले में उनकी सलाह जरूरी जाएगी।

must read: ताई बोलीं, नए साल में पार्टी के लिए लिया नया निर्णय | Tai said, new decision taken for party in New Year:

वैसे इंदौर की टिकट का मामला अब अकेले अमित शाह के बस का भी नहीं रहा क्योंकि ताई की नाराजगी और उसके बाद चुनाव से दूरी बनाने के कारण कल देर रात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक पूरा मामला पहुंचा। सूत्रों का कहना है कि ताई कि मोदी या अमित शाह से बात भी हुई, लेकिन इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है। विजयवर्गीय टिकट के मामले में कुछ भी नहीं बोल रहे हैं और लगातार पश्चिम बंगाल में दौरे कर रहे हैं। इसी कारण उनकी रणनीति क्या है इसका खुलासा अभी तक नहीं हो पाया है। ताई इस बात को भी अच्छी तरह से जानती है कि चुनाव भले ही नहीं लड़े लेकिन आगे मोदी सरकार बनने पर उपराष्ट्रपति और राष्ट्रपति या राज्यपाल बनने की रास्ते खुले पड़े हैं।

must read: कांग्रेस के मंच पर छलका शत्रुघ्न सिन्हा का भाजपा प्रेम | Shatrughan Sinha’s BJP Love on the Congress platform

आमतौर पर अनुशासित कही जाने वाली ताई के बारे में कहा जा रहा है कि वह अब इस पूरे मामले को लेकर कुछ नहीं कहेगी। कल और आज वादों की बैठक नहीं होना थी। यह बैठके कल से फिर शुरू होगी। आज विधायक रमेश मेंदोला के कहने पर ताई विधानसभा 2 के गुड़ी पड़वा समारोह में जरूर शामिल होगी। सबसे बड़ी बात तो यह है कि इंदौर के टिकट को लेकर मध्यप्रदेश भाजपा भी कुछ कहने की स्थिति में नहीं है। सुमित्रा महाजन और कैलाश विजयवर्गीय दोनों का मामला राष्ट्रीय स्तर का होने के कारण अब वह खुद तय करेंगे कि क्या करना है।

must read: ऐसे किया ताई ने टिकट को बाय-बाय | Tai says Bye-Bye to ticket in such a way

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com