दिल्ली : गांव-गांव बस्ती-बस्ती शहर-शहर सबको चपेट में लेगा ओमिक्रॉन!

यूं भले ही कोरोना की तीसरी लहर के कदम को रोकने के लिए सरकारी स्तर पर बेहतरी से प्रयास किए जा रहे हो लेकिन एक सरकारी संस्था का यह मानना है कि  ओमिक्रॉन किसी को नहीं छोड़ेगा अर्थात यह गांव गांव...बस्ती..बस्ती और शहरों में फैलकर सबको एक बार तो चपेट में लेगा ही।

नई दिल्ली: यूं भले ही कोरोना की तीसरी लहर(Third Wave) के कदम को रोकने के लिए सरकारी स्तर पर बेहतरी से प्रयास किए जा रहे हो लेकिन एक सरकारी संस्था का यह मानना है कि  ओमिक्रॉन(Omicron) किसी को नहीं छोड़ेगा अर्थात यह गांव गांव…बस्ती..बस्ती और शहरों में फैलकर सबको एक बार तो चपेट में लेगा ही। संभवतः यह पहली बार ही होगा जब सरकार ने यह माना है कि कोरोना का कम्युनिटी ट्र्रांसमिशन होने की कगार पर है। इसी बीच सरकारी संस्था इंडियन  एसएआरएस सीओ-2 जीनोमिक्स कंर्सोटियम ने यह कहा है कि ओमिक्रॉन का कम्युनिटी ट्रांसमिशन हो रहा है, निश्चित ही यह चिंता की बात होगी और यदि यह संभावना व्यक्त की जा रही है तो फिर इतना तय है कि हर जगह ओमिक्रॉन फैलकर अपना प्रभाव अवश्य ही दिखाएगा।

Must Read : विवादित बयान को लेकर कानूनी घेरे में आई Shweta Tiwari, दर्ज हुई FIR

डोमिनेंट वैरिएंट बना

संस्था के पदाधिकारियों का यह भी कहना है कि कोरोना की रोकथाम के लिए जरूरी कदम सरकार की तरफ से उठाए जा रहे है बावजूद इसके जिस तरह से ओमिक्रॉन का फैलाव हो रहा  है और मरीजों की संख्या मंे दिनों दिन बढ़ोतरी हो रही है उससे यही लगता है कि ओमिक्रॉन अधिकांश बड़े शहरों में डोमिनेंट वैरिएंट बन गया है। संस्था का कहना है कि ओमिक्रॉन वायरस बगैर ट्रैवल हिस्ट्री वाले लोगों में भी फैल रहा है।

Must Read : ये है आपका लकी नंबर और शुभ रंग, जानिए कैसा रहेगा दिन

खतरा बरकरार है

संस्था का कहना है कि लोगों को सावधानी रखने की जरूरत है, वैक्सीनेशन भी कराने की तरफ लोगों को ध्यान रखना चाहिए। संस्था ने यह भी माना है कि ओमिक्रॉन असर तो कर रहा है लेकिन डेल्टा की तुलना में माइल्ड भी लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि खतरा पूरी तरह से टल गया हो।

यह मतलब होता है

कम्युनिटी ट्रांसमिशन का मतलब यह बताया गया है कि संक्रमण की चेन कहां से चली है अैर किसे संक्रमित किया है। इसके अलावा वायरस बगैर ट्रैवल हिस्ट्री के स्थानीय स्तर पर भी फैल रहा है। बगैर किसी के संपर्क में आए भी बीमारी फैल रही है।