उत्तर प्रदेश : Vikas Dubey की मदद करना पड़ा भारी, मिनिमम सैलेरी पर काम करेंगे पुलिसकर्मी

उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा विकास दुबे की आपराधिक गतिविधियों में सहयोग करने वाले पुलिसकर्मियों पर बड़ी कार्यवाही करते हुए उन्हें न्यूनतम वेतन पर विभाग में कार्य करने के आदेश जारी किए हैं। इसके अलावा इन पुलिसकर्मियों के अबतक की वेतनवृद्धि और पद्दोन्नति पर भी रोक लगाकर वापस ले लिए गए हैं।

कानपुर के कुख्यात बदमाश विकास दुबे (Vikas Dubey) की मदद करना पुलिसकर्मियों को भारी पड़ गया। दरअसल उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा विकास दुबे की आपराधिक गतिविधियों में सहयोग करने वाले पुलिसकर्मियों पर बड़ी कार्यवाही करते हुए उन्हें न्यूनतम वेतन पर विभाग में कार्य करने के आदेश जारी किए हैं। इसके अलावा इन पुलिसकर्मियों के अबतक की वेतनवृद्धि और पद्दोन्नति पर भी रोक लगाकर वापस ले लिए गए हैं।

Also Read-MP Recruitment : मंत्रालय में नियुक्तियों को लेकर Guideline पर अंतिम फैसला आज, 52000 पदों पर होगी भर्ती

चार दारोगा और दो सिपाही थे विकास दुबे के मददगार

उल्लेखनीय है कि कानपुर के कुख्यात बदमाश विकास दुबे की मदद करने के आरोप में न्यूनतम वेतन पर कार्य करने के आदेश पाने वाले पुलिस कर्मियों में चार उत्तर प्रदेश पुलिस के दरोगा हैं वहीं विभाग के दो सिपाही भी विकास दुबे का सहयोग करने के आरोपी साबित हुए हैं।

Also Read-शिवराज सरकार राशन घोटाला : दस हजार टन पोषण आहार का घपला, चारा घोटाले की तर्ज पर, ट्रकों के बने बिल, बाइक और स्कूटर के नंबर पर

आठ पुलिस वालों की की थी हत्या

ज्ञातव्य है कि कानपुर के बिकरू गाँव में गांव के ही रहने वाले कुख्यात बदमाश विकास दुबे ने अपने साथियों के साथ मिलकर 2 जुलाई 2020 में आठ पुलिस वालों को गोलियों से भून दिया था। इस कांड के बाद दुनियाभर में इसकी चर्चा हुई थी। बाद में विकास दुबे और उसके पांच साथियों को इनकाउंटर में मार गिराया गया था।