आर्थिक संकट के बीच UN ने लिया बड़ा फैसला, शनिवार-रविवार बंद रहेगा मुख्यालय

संयुक्त राष्ट्र में नगदी संकट जारी है। इसी के चलते यूएन ने शनिवार और रविवार को मुख्यालय बंद करने का फैसला लिया है। जिसकर पुष्टि खुद यूएन ने की है। गौरतलब है कि इससे पहले मुख्यालय के एसी और लिफ्ट को भी बंद कर दिया गया था।

0
41
un

न्यूयाॅर्क। संयुक्त राष्ट्र में नगदी संकट जारी है। इसी के चलते यूएन ने शनिवार और रविवार को मुख्यालय बंद करने का फैसला लिया है। जिसकर पुष्टि खुद यूएन ने की है। गौरतलब है कि इससे पहले मुख्यालय के एसी और लिफ्ट को भी बंद कर दिया गया था।

यूएन ने ट्वीट कर कहा कि ‘न्यूयॉर्क में यूएनएचक्यू बिल्डिंग को अब छुट्टी वाले दिन (शनिवार-रविवार) को कैश की समस्या के कारण बंद रखने का फैसला लिया गया है। क्या आपके देश ने इस साल के नियमित संयुक्त राष्ट्र के बजट में अपना योगदान दिया है? देखें कौन से देश हैं ऑनर रोल पर हैं।’

सदस्य देशों ने नहीं किया बकाए का भुगतान

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश महासचिव के मुताबिक 193 सदस्य देशों में से 128 देशों ने ही अपनी वार्षिक बकाया राशि का भुगतान किया है। यदि तयशुदा बकाया राशि का भुगतान नहीं होता है तो संयुक्त राष्ट्र के कामकाज और सुधार प्रक्रिया के समक्ष जोखिम पैदा हो जाए

एक दशक में सबसे गंभीर संकट

बता दे कि संयुक्त राष्ट्र को बीते एक दशक में पहली बार इतने गंभीर वित्तीय संकट का सामना करना पड़ा है। बताया जा रहा है कि यूएन के सामने आरक्षित निधि में रखी नकदी के अक्तूबर माह के अंत तक खर्च हो सकती है। ऐसे मेंकर्मचारियों को वेतन और अन्य सेवाओं के भुगतान का संकट मंडरा सकता है।

संयुक्त राष्ट्र के प्रबंधक विभाग की अध्यक्ष कैथरिन पोलार्ड द्वारा आम सभा की बजट कमेटी को दी गई जानकारी के मुताबिक सिर्फ 128 देशों ने चार अक्तूबर तक 199 करोड़ डॉलर की राशि जमा की है। वहीं 65 देशों की 138.6 करोड़ डॉलर की राशि अब भी बकाया है। जिसमें से 100 करोड़ डॉलर की राशि अकेले अमेरिका को ही देनी है।

एसी-लिफ्ट भी किए बंद

गौरतलब है कि इससे पहले संयुक्त राष्ट्र ने अपने खर्चों में कटौती करने के लिए अपने मुख्यालय में मौजूद एसी, लिफ्ट और एस्केलेटर सहित मुख्यालय के बाहर लगे फाउंटेन को सोमवार से बंद का फैसला लिया था। करने जा रहा है। साथ ही संयुक्त राष्ट्र में कार्यरत अधिकरियों और कर्मचारियों से आधिकारिक बैठक, यात्रा और डॉक्यूमेंट्स का छह भाषाओं में अनुवाद करने में कटौती करने की भी बात कही गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here