उज्जैन महाकाल मंदिर (Ujjain Mahakal Temple) की प्रसिद्धता महाकाल लोक बनने के बाद काफी बाद गई जिसके बाद से श्रद्धालु की संख्या भी बढ़ गई है जिसके चलते अब व्यवस्था भी चरमराने लगी है इसको लेकर उज्जैन पुलिस ने उज्जैन कलेक्टर आशीष सिंह, स्मार्ट सिटी सीईओ, नगर निगम आयुक्त, श्री महाकलेश्वर मंदिर प्रशासक के नाम एक पत्र जारी किया है जिसमे महाकालेश्वर मंदिर व श्री महाकाल महालोक में बढ़ती हुई श्रद्धालुओं की संख्या और अव्यवस्थाओं को लेकर कई बिंदुओं पर अपनी बात रखी

पत्र में कहा गया कि श्री महाकाल मंदिर के पास निर्मित महाकाल लोक को देखने आने वालों की संख्या प्रतिदिन काफी अधिक हो रही हैं, पिछले दिनों अनेक त्योहारों और छुट्टी के दिनों में यहां आने वालों की संख्या प्रतिदिन की संख्या से लगभग 2 से 3 गुना तक बढ़ गई है, ऐसे में पार्किंग से लेकर पीने के पानी, सुरक्षा कर्मियों की कमी, पी ए सिस्टम, सीसीटीवी व अन्य सुविधाएं पूरी नहीं होने से कई परेशानियां सामने आ रही है जिसे पूरा किया जाए.

एस पी ने बताई पूरी बात

इस मामले में एसएसपी सत्येंद्र कुमार शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि कई व्यवस्थाओं को जिला कलेक्टर आशीष सिंह ने संज्ञान में लेते ही पूरा करवा दिया है, कई खामियां हैं, जिसे आशीष सिंह जिला कलेक्टर ने आश्वासन दिया है कि जल्द इन्हें पूरा कर लिया जाएगा. किसी भी प्रकार से व्यवस्थाओं में कमी नहीं रहेगी.

पत्र के मुख्य बिंदु

1. श्री महाकाल महालोक, महाकाल मंदिर से इंटरपिटिशन पार्किंग तक लगभग 1.5 कि.मी. दायरे में फैला हुआ हैं, इसमें विभिन्न कलाकृतियां हैं. इस पूरे परिसर को कम से कम 15 सेक्टर में विभाजित किया जाए और प्रत्येक सेक्टर में कम से कम 10 सुरक्षा गार्ड शिफ्ट वाईज लगाए जाने आवश्यक है.

2. पूरे परिसर में आगन्तुकों की गतिविधियों पर निगाह रखने के लिए एवं इंटरपिटिशन पार्किंग में आने वाले एवं यहां से जाने वाले वाहनों के संबंध में हरि फाटक ब्रिज के नीचे नंदी द्वार से नूरानी मस्जिद तक महाकाल लोक की दिवार के पीछे एवं तकिया मस्जिद से चारधाम पार्किंग तक की गतिविधियों पर निगाह रखने के हेतु पर्याप्त संख्या में सीसीटीवी कैमरे लगाए जाने आवश्यक हैं. ये सभी सीसीटीवी कैमरे मुख्य कंट्रोल रूम से संचालित हो यह सुनिश्चित किया जाना आवश्यक है.

3. सीसीटीवी में कोई अवांछनीय गतिविधियां दिखाई देने पर पी. ए. सिसिटम के माध्यम से उस कृत्य को रोका जा सके. इस हेतु पूरे परिसर पर सेन्ट्रल पी. ए. सिस्टम एवं सेक्टर वाईज पी.ए सिस्टम भी लगाना जाना आवश्यक है. पीए सिस्टम को इंटरपिटिशन पार्किंग, बड़ा गणेश मंदिर एवं चार धाम पार्किंग से भी जोड़ा जाना आवश्यक है.

4. त्रिवेणी गेट पर पीए सिस्टम माईक के साथ होना आवश्यक है.

5. त्रिवेणी पार्किंग व्यवस्थित एवं निर्बाध रूप से संचालित हो इस हेतु आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित की जाए.

6. इंटरपिटिशन सेंटर से हरिफाटक टी तक खुला होने के कारण वाहनों से आने-जाने वाले लोग पुल पर अपने वाहन खड़े कर वहीं से परिसर का अवलोकन कर सेल्फी लेते हैं जिस कारण पुल पर यातायात बाधित हो कर प्रतिदिन जाम की स्थिति निर्मित हो रही है जो किसी दिन बडी दुर्घटना का कारण बन सकता है. इस हेतु पुल के उस भाग को कम से 7-8 फिट ऊंची लोहे के चद्दर से कव्हर कराया जाना आवश्यक है. इन चद्दरों पर उज्जैन से जुड़ी गाथाओं एवं महाकाल लोक से संबंधित फ्लेक्स लगाकर इसमें सुंदर एवं आकर्षक बनाया जा सकता है.

7. श्री महाकाल लोक के पूरे परिसर के अतिरिक्त, त्रिवेणी पार्किंग एवं चारधाम मंदिर पार्किंग तक सड़क के दोनों पार्किंग एवं मंदिर तरफ लगे विद्युत खंबों में लगे हाई मास्क पूरी रात निर्बाध रूप से चलते रहे यह भी सुनिश्चित किया जाना आवश्यक है.

8. हरि फाटक ब्रिज के नीचे पत्रकार कालोनी से नूरानी मस्जिद तक स्थित कालोनी में महाकाल लोक की दिवार के पीछे निर्बाध विद्युत व्यवस्था भी सुरक्षा की दृष्टि से आवश्यक है.

9. श्री महाकाल महालोक के दोनों सिरों पर वॉच टॉवर भी लगाना जाना आवश्यक है. इसमें PTZ Camere एवं माईक आवश्यक है.

10. तकिया मस्जिद के सामने चारधाम मंदिर तक रूद्र सागर के तरफ का हिस्सा खुला हुआ है इसे भी बाउंड्री वॉल से कव्हर कराया जाना आवश्यक है.

11. श्री महाकाल महालोक को देखने के लिए आने वाले बुजूर्ग एवं दिव्यांग व्यक्तियों के लिए व्हील चेयर भी पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हो यह सुनिश्चित किया जाना आवश्यक है. इनका संचालन महाकाल मंदिर की भांति ही हो यह भी सुनिश्चित किया जाना आवश्यक है.

इसके साथ ही और भी कई बिन्दुओ का पात्र में जिक्र किया गया है

Also Read : इंदौर पुलिस ने एसपीसी कैडेट्स को इंफोसिस कैंपस का कराया औधोगिक भ्रमण, नई तकनीकों से करवाया अवगत