UIDAI ने कैंसिल किए 6 लाख आधार कार्ड जानिए क्यों

अब के समय में सभी के लिए आधार कार्ड जरूरी दस्तावेज बन गया है। लेकिन पिछले कुछ समय से आधारकार्ड पर चल रहे फर्जीवाड़े से इसकी विश्वसनीयता पर बड़े प्रश्न खड़े हो रहे

अब के समय में सभी के लिए आधार कार्ड जरूरी दस्तावेज बन गया है। लेकिन पिछले कुछ समय से आधारकार्ड पर चल रहे फर्जीवाड़े से इसकी विश्वसनीयता पर बड़े प्रश्न खड़े हो रहे। आधार कार्ड की मदद से कोई भी आसानी से अपनी पात्रता के अनुसार सरकारी सेवाओं का लाभ उठा सकता है। लेकिन कुछ समय से फर्जी कंपनियां भी आधार कार्ड बनाने का फ्रॉड कर रही है। आधार कार्ड से जुड़ी काफी सारी शिकायतें सरकार को भी मिली हैं। इस पर कार्रवाई करते हुए आधार कार्ड जारी करने वाली संस्था यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (UIDAI) ने कड़ा कदम उठाते हुए 5,98,999 आधार कार्ड को रद्द कर दिया है। लेकिन रद्द आधार कार्ड धारकों के लिए समस्या बढ़ी है।

Also Read – वायुसेना अग्निवीर भर्ती परीक्षा आज, एग्जाम पैटर्न, नियम सहित सभी डिटेल्स यहां

देशभर में डुप्लीकेट आधार कार्ड की समस्या को खत्म करने के लिए UIDAI लगातार कदम उठा रहा है। अब आधार कार्ड में फर्जीवाड़ा कर पाना नामुमकिन होगा। क्योंकि यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया आधार कार्ड बनाने के लिए एक नया सिक्योरिटी फीचर ली है। अब आधार कार्ड में ‘फेस’ वेरिफिकेशन का फीचर जोड़ा गया है। इसका मतलब यह है कि अब आधार कार्ड वेरिफिकेशन में चेहरे का भी इस्तेमाल किया जाएगा। अब तक केवल वेरिफिकेशन के लिए फिंगरप्रिंट और आंखों का ही उपयोग किया जाता है। लेकिन अब फेस भी वेरीफाइड होगा।
केंद्र और राज्य स्तर पर फर्जी आदार कार्ड बनाने वालों पर बड़ी कार्यवाही हो रही है। जो अन्य फर्जी कंपनियां और वेबसाइच आधार कार्ड बना रही हैं, सभी को नोटिस दे दिया गया है। आधार कार्ड से जुड़ी सेवाओं का दावा करने वाली फर्जी वेबसाइटों को UIDAI की ओर से नोटिस भेजा जा चुका है। इसके साथ उन्हें किसी भी प्रकार की सेवा देने से रोक दिया गया है। साथ ही इन वेबसाइटों के होस्टिंग सर्विस प्रोवाइडर से कहा गया कि तुरंत इनको ब्लॉक किया गया है। अब आधार कार्ड में फर्जीवाड़ा नहीं हो पाएगा।