Tithi: आज है फाल्गुन शुक्ल चतुर्थी तिथि, इन बातों का रखें ध्यान

आज रविवार, फाल्गुन शुक्ल चतुर्थी तिथि है। आज अश्विनी नक्षत्र, "आनन्द" नाम संवत् 2078 है।

आज रविवार, फाल्गुन शुक्ल चतुर्थी तिथि (Tithi) है।
आज अश्विनी नक्षत्र, “आनन्द” नाम संवत् 2078 है।
-(उक्त जानकारी उज्जैन के पञ्चाङ्गों के अनुसार है)

-होली पर्व हास्य – परिहास, मौज – मस्ती और सामाजिक मेलजोल का प्रतीक माना जाता है, परन्तु वास्तव में होली एक वैदिक यज्ञ है।
-होली के वैदिक यज्ञ में सोमयज्ञ सर्वोपरि है।
-वैदिक काल में प्रचुरता से उपलब्ध सोम लता का रस निचोड़ कर उससे जो यज्ञ सम्पन्न किए जाते थे, वे सोमयज्ञ कहलाते थे।
-कालान्तर में यह लता लुप्त हो गई। इसके विकल्प में अर्जुन वृक्ष और महाराष्ट्र में रांशेर नामक वनस्पति का उपयोग किया जाता है।
-सोम लता से बनाया गया सोमरस इतना शक्ति वर्धक और उल्लास कारक होता था कि उसको पीकर वैदिक ऋषियों को अमरता जैसी आनन्दानुभूति होती थी।
-इस वैदिक सोमयज्ञ के तीन स्वरूप थे। इनमें से एक सत्रयाग है, जिसका अनुष्ठान पूरे वर्ष चलता था। इसमें सिर्फ प्रमुख रूप से ऋषिगण ही भाग लेते थे।
-सोमयज्ञ के अन्तिम दिन महाव्रत होता था, जिसमें ऋषिगण मनोविनोद करते थे।
-आमोद – प्रमोद, हास्य-व्यंग्य किए जाते थे।
-इसका प्रयोजन आनन्द और उल्लासमय वातावरण में उत्पन्न करना होता था।
-वर्ष का अन्तिम दिन फाल्गुन शुक्ल पूर्णिमा का ही होता था। इसीलिए इस दिन को हास्य – परिहास्य का दिन माना गया।
-यज्ञ वेदी में अग्नि प्रमुख होती है। इसलिए आग प्रज्ज्वलित की जाती है।
-होली पर जानकारी क्रमश.