आज है चैत्र कृष्ण एकादशी तिथि, इन बातों का रखें ध्यान

आज सोमवार, चैत्र कृष्ण एकादशी तिथि है। आज श्रवण नक्षत्र, "आनन्द" नाम संवत् 2078 है

आज सोमवार, चैत्र कृष्ण एकादशी तिथि (Tithi) है।
आज श्रवण नक्षत्र, “आनन्द” नाम संवत् 2078 है
-( उक्त जानकारी उज्जैन के पञ्चाङ्गों के अनुसार है)

-आज पापमोचनी एकादशी व्रत (चारोली) है।
-कल मङ्गलवार को भौम प्रदोष व्रत है।
-2 अप्रैल शनिवार को नव संवत्सर, नववर्ष का उत्साह से स्वागत करें।
-उस दिन सब अपने – अपने नगर के सूर्योदय के समय अथवा सम्पूर्ण भारत में एकरूपता के लिए कालगणना की नगरी उज्जयिनी के मध्योमदय समय प्रातः 6:27 बजे तीर्थ स्थल या पवित्र स्थल पर एकत्रित होकर शंख ध्वनि, ढोल नगाड़े, तुराही, शहनाई, झांझ – घड़ियाल के साथ नववर्ष का अभिनन्दन करें।
-सूर्य को अर्घ्य प्रदान करें और 12 नामों से सूर्य नमस्कार करें।
-वेद में उल्लेखित संवत्सर सूक्त का पाठ करें।
-ध्वज पूजन, कलश पूजन, तीर्थ पूजन, आरती करें। मिश्री या गुड – नीम की पत्ती और प्रसाद का वितरण करें।
-नववर्ष मिलन तथा परस्पर शुभकामनाएं व्यक्त करें।
-विस्मृत होते जा रहे भारतीय नूतन वर्ष का प्रचार – प्रसार करें।
-2 अप्रैल शनिवार से “राक्षस” नाम अनुवत्सर तथा विक्रम संवत् 2079 आरम्भ होगा।
-गुड़ी पड़वा के दिन “राक्षस” नाम संवत्सर उपस्थित रहेगा, इसीलिए पूरे वर्षभर संकल्प इत्यादि में “राक्षस” नाम संवत्सर के नाम का उल्लेख होगा।
-इस बार नूतन वर्ष प्रवेश कर्क लग्न में आरम्भ हो रहा है।