Tithi : आज है मार्गशीर्ष शुक्ल नवमी तिथि, रखें इन बातों का ध्यान

आज रविवार, मार्गशीर्ष शुक्ल नवमी तिथि है। आज उत्तरा भाद्रपद नक्षत्र, "आनन्द" नाम संवत् 2078 है। 

आज रविवार, मार्गशीर्ष शुक्ल नवमी तिथि है। आज उत्तरा भाद्रपद नक्षत्र, “आनन्द” नाम संवत् 2078 है।
( उक्त जानकारी उज्जैन के पञ्चाङ्गों के अनुसार है)

Also Read – Love Horoscope : जानिए आपके प्रेम और वैवाहिक जीवन के लिए कैसा रहेगा दिन

-आज कल्पादि नन्दा नवमी तिथि है। नन्दिनी नवमी भी है।
-दुर्लभं मानुषं जन्म प्रार्थ्यते त्रिदशैरपि।
तल्लब्ध्वा परलोकार्थं यत्नं कुर्याद् विचक्षण:।।
अर्थात् – मनुष्य का जन्म दुर्लभ है। देवता भी मानव जन्म लेने के लिए प्रार्थना करते हैं। अतः मानव जन्म पाकर विद्वान व्यक्ति परलोक सुधारने का यत्न करे।
-चरणामृत ग्रहण करते समय जो मन्त्र बोला जाता है, वह नारद पुराण के पूर्व भाग के अध्याय 37 के श्लोक 16 में उल्लेखित है।
-वर्तमान काल में क्या हो रहा है और भविष्य में क्या होगा? उसका विस्तार से नारद पुराण पूर्व भाग के 40 व 41 वें अध्याय में स्पष्ट वर्णन किया गया है।
-बदरिकाश्रम का एक नाम विशालापुरी भी है।
-माता – पिता की मृत्यु पर गरुड़ पुराण का श्रवण कर विषुव योग में ब्राह्मण को दो हंस प्रतिमाओं के साथ गरुड़ पुराण दान करने का विशेष महत्त्व है।
-गरुड़ पुराण के पूर्व खण्ड में रोग नाशक विष्णु कवच एवं गरुड़ कवच का भी उल्लेख है।
-श्रीमद् भागवत में 18 हजार श्लोक है, जबकि तार्क्ष्य – कल्प की कथा सहित गरुड़ पुराण में 19 हजार श्लोक हैं।

विजय अड़ीचवाल