श्रीधूनीवाले दादाजी दरबार में गुरु पूर्णिमा के पावन पर्व पर यानी 23 जुलाई के दिन इस बार भीड़ नहीं लगाई जा सकती है। गुरु पूर्णिमा का पर्व मनाया जाएगा लेकिन इस साल बड़ी संख्या में भक्त शामिल नहीं हो पाएंगे। क्योंकि कोरोना संक्रमण फैलने की आशंका के चलते जिला प्रशासन ने 21 जुलाई से तीन दिन तक जिले की सीमाएं सील कर दी हैं।

ऐसे में एक बार में सिर्फ 50 लोगों को ही दर्शन करने की अनुमति दी जाएगी। जानकारी के मुताबिक, हर साल दादाजी दरबार में पर्व पर महाराष्ट्र सहित देशभर के अलग-अलग हिस्सों से बहुत से भक्त निशान लेकर पदयात्रा करते हुए आते हैं। लेकिन इस बार कोरोना होने की वजह से गुरु पूर्णिमा से पहले ही महाराष्ट्र और अन्य प्रदेशों से भक्त निशान चढ़ाने आ रहे हैं। बता दे, मंगलवार रात 12 बजे तक निशान चढ़ाने की अनुमति के चलते दिनभर दरबार में श्रद्धालुओं के आने का सिलसिला चलता रहा।

श्रीदादाजी दरबार की ओर जाने वाले मार्ग होंगे बंद –

जानकारी के मुताबिक, श्रीधूनीवाले दरबार में गुरुपूर्णिमा पर श्रद्धालुओं की भीड़ ना बढ़े इसको देखते हुए तीनस्तर पर बेरिकेडिंग लगाकर श्रद्धालुओं को रोका जाएगा। साथ ही संक्रमण फैलने की आशंका के चलते यह व्यवस्था जिला प्रशासन द्वारा की गई है। बता दे, श्रीदादाजी दरबार में मंगलवार रात 12 बजे तक श्रद्धालुओं को प्रवेश दिया गया। पांढुर्रना के भक्तों ने देर रात को समाधि पर निशान चढ़ाया।