लॉकडाउन का पालन न करना इस देश को पड़ा भारी, एक दिन में मरे 462 लोग

0
corona virus

कोरोना वायरस की वजह से दुनियाभर में दहशत का माहौल बना हुआ है. कोरोना वायरस की वजह से दुनिया में सबसे ज्यादा मौतें इटली में हुई है. लेकिन अब इटली के बाद स्पेन में भी कोरोना का तांडव तेज होता नजर आ रहा है.दरअसल, स्पेन में कोरोना वायरस के करीब 40 हजार से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं, जबकि 2700 से ज्यादा लोगों की मौत भी हो गई है. कोरोना से मौत का यह आंकड़ा चीन और इटली के बाद सबसे बड़ा है.

बीते दो हफ़्तों में दुनिया में सबसे तेजी से कोरोना वायरस के मामले बढ़े हैं. इस मामले पर एक्सपर्ट्स का कहना है कि इसकी वजह सरकार का देर से ऐक्टिव होना, स्पेन के लोगों की ऐक्टिव नाइटलाइफ और लॉकडाउन का पालन ना करना है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, स्पेन में लॉकडाउन के दूसरे सप्ताह की शुरुआत भी बेहद ख़राब हुई. यहां बीते 24 घंटों में करीब 462 लोगों की मौत हो गई है. यह अब तक का सबसे बड़ा आंकड़ा है. हैरान कर देने वाली बात तो यह है कि शुक्रवार तक कोरोना वायरस से 1000 मौतें हुई थीं लेकिन मंगलवार तक संख्या दोगुनी होकर 2500 के पार पहुंच गई. कोरोना से जूझ रहे चीन और इटली में भी अब ऐसा आंकड़ा पार नहीं किया है. स्पेन में चिंता की एक और बात ये है कि इटली की तुलना में यहां कई हिस्सों में बीमारी फैल चुकी है. इटली में जहां तीन इलाकों में पहली 100 मौतों में 90 फीसदी मौतें हुई थीं वहीं स्पेन में कोरोना वायरस कई इलाकों में अपनै पैर जमा चुका है.

लगातार बढ़ती मौतों की वजह से शवगृहों में भी जगह नहीं बची है. इसी के चलते प्रशासन ने आइस स्केटिंग रिंक को ही शवगृह बनाने का फैसला किया है.