पैन कार्ड में लिखे ये 10 नंबर बताते है आपका स्टेटस, जानिए इन अंको के पीछे का राज

10 डिजिट के नंबर में अंग्रेजी के अक्षर और कुछ अंक भी लिखे होते हैं। क्या आप जानते हैं कि पैन कार्ड में यह क्यों होते हैं और इसका क्या मतलब है? आज हम आपको इससे जुड़ी जानकारी देने वाले हैं।

यह तो हम जानते हैं कि पैन कार्ड का इस्तेमाल वित्तीय लेनदेन वित्तीय लेनदेन में होता है। कई जरूरी दस्तावेजों में भी ये बहुत उपयोगी है। बैंक के लेनदेन से लेकर तो नगद जमा खर्च करने के लिए, तक यहां तक की इनकम टैक्स के लिए भी पैन कार्ड का होना बहुत ज्यादा जरूरी है। लेकिन आज हम आपको पैन कार्ड से जुड़ी कई जानकारी देने वाले हैं। पैन कार्ड में आपका परमानेंट अकाउंट नंबर लिखा होता है और यह आपके वित्तीय लेनदेन से जुड़ा होता है। इसमें कई तरह की जानकारियां होती है, जो की इनकम टैक्स के लिए तो जरूरी होती ही है। लेकिन हमारे लिए भी उन जानकारियों का होना बहुत जरूरी है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि 10 डिजिट के नंबर में अंग्रेजी के अक्षर और कुछ अंक भी लिखे होते हैं। क्या आप जानते हैं कि पैन कार्ड में यह क्यों होते हैं और इसका क्या मतलब है? आज हम आपको इससे जुड़ी जानकारी देने वाले हैं। क्योंकि इन नंबरों में आपकी वित्तिय स्थिति होती है और यह नंबर क्या काम करते हैं और कैसे काम करते हैं यह भी जानकारी हम आपको देंगे।

अगर आपके पास पैन कार्ड है, तो पैन कार्ड नंबर के पहले तीन डिजिट अंग्रेजी अक्षर होते हैं। जो कि AAA से ZZZ तक मे से हो सकते हैं। आपके पैन कार्ड में तीनो डिजिट में से कौन से होंगे इसे तय आयकर विभाग ही करता है। लेकिन पेन का चौथा अक्षर भी अंग्रेजी में होता है और यह आयकर दाता के स्टेटस को दिखाता है। यहां P, C, H, A, T इनमें से कोई भी लेटर हो सकता है। दरअसल आपको बता दें कि जो चौथा अक्षर होता है वह इसलिए होता है। क्योंकि चौथा अक्षर बताता है कि धारक कौन है और उसका क्वालिफिकेशन इस तरह से किया जाता है।

Must Read- खत्म हुआ आधार कार्ड सेंटर जाने का झंझट! FaceRD ऐप से घर बैठे होंगे सारे काम

P- यह एक व्यक्ति के लिए यूज होता है ।
C- कंपनी के लिए यूज होता है।
H- हिंदू अनडिवाइडेड फैमिली के लिए
A- लोगों के समूह के लिए यूज होता है।
B- व्यक्तियों के निकाय के लिए यूज होता है।
G- सरकारी एजेंसी के लिए यूज होता है।
J- आर्टिफिशियल ज्यूडिशियल पर्सन के लिए यूज होता है।
L- स्थानीय निकायों के लिए यूज होता है।
F- फॉर्म/ लिमिटेड लायबिलिटी पार्टनरशिप के लिए यूज होता है।
T- ट्रस्ट के लिए यूज होता है।

आपको बता दें कि पैन कार्ड का पांचवा लैटर भी अंग्रेजी में लिखा होता है और यह कार्ड होल्डर के सरनेम के हिसाब से तय होता है। इसके बाद ही पैन कार्ड में 4 अंक दर्ज होते हैं। PAN Card मे यह नंबर 0001 से लेकर 9999 के बीच कुछ भी हो सकते हैं। PAN Card पर दर्ज यह नंबर उस सीरीज को बताते हैं जो मौजूदा समय में इनकम टैक्स डिपार्टमेंट में चल रही होती है। 10 अंकों के आखिर में एक अल्फाबेट चेक डिजिट होता है और यह किसी भी लेटर में लिखा हो सकता है। मुख्यतौर पर पैन कार्ड में 10 नंबर का भी अपना अलग महत्व है। सभी के अलग -अलग लैटर का इस्तेमाल किया जाता हैं और यह आपके स्टेटस को बताता है।