मध्य प्रदेश के इंदौर में रविवार को प्रवाली भारतीय सम्मेलन का शुभारंभ हो गया है। इस सम्मेलन में आने वाले प्रवासी भारतीय का मोबाईल गुम हो गया था। इस घटना की जानकारी मिलते ही ब्रिलियंट कन्वेन्शन सेंटर का पुलिस कन्ट्रोल रूम हरकत में आ गया। कुछ ही घंटो के अंतराल के बाद खोज कर उनका फोन ढूंढकर लौटा दिया गया।

मिली जानकारी के मुताबिक, पुलिस कन्ट्रोल रूम ब्रिलियंट कन्वेन्शन केन्द्र से सूचना प्राप्त हुई कि थाना लसूडिया क्षेत्र में प्रवासी भारतीय अवनीश के. त्यागी का मोबाईल होटल से बीसीसी सेंटर आने के दौरान कहीं खो गया हैं।

कैब ड्राइवर के पास मिला फोन

मोबाईल गुम होने की सुचना प्रवासी भारतीय अवनीश ने क्राइम ब्रांच को दी। इसके बाद क्राइम ब्रांच की टीन ने तुरंत कार्यवाही शुरू कर दी। कई बार उनके नंबर पर कॉल किया गया। लेकिन कॉल रिसीव नही किया गया। इसी बीच पता चला की फोन ओला कैब में ही छूट गया। जिस पर ओला कैब के ड्राइवर के बारे में जानकारी निकालकर तलाश की गई, तो उनका मोबाइल कैब ड्राइवर नीलकंठ उर्फ मिशाल पिता सुभाष मिशाल उम्र 28 वर्ष निवासी सेटेलाईट जक्शन इदौंर की गाड़ी में पाया गया।

कड़ाई से की पूछताछ

पूछताछ करते उसने बताया कि वह टेक्सी चलाता हैं। सुबह साईप्रस के प्रवासी भारतीय नें होटल प्रिंस पैलेस होटल तुकोगंज से प्रवासी भारतीय सम्मेलन में शामिल होने के लिये ब्रिलियंट कन्वेन्शन तक के लिये आनलाईन टेक्सी बुक की थी जो मेरी टैक्सी मे बैठकर ब्रिलियंट कन्वेन्शन तक गये थे। इसी दौरान साईप्रस के प्रवासी भारतीय का सेमसंग कम्पनी का मोबाईल टैक्सी मे ही छूट गया गया था जिसके बारे में मुझे जानकारी नही थी।

क्राईम ब्रांच की टीम नें तत्परता से एवं मामले को गंभीरता से लेकर मोबाइल को तलाश करना शुरू किया और कैब ड्राइवर नीलकंठ की गाड़ी को तलाश कर, कैब ड्राइवर से एक सेमसंग कम्पनी का मोबाईल प्राप्त कर साईप्रस देश के प्रवासी भारतीय अवनीश के. त्यागी को वापस दिया।