स्वच्छ इंदौर पर दाग, शहर की फिजा खराब करने में कोई कसर नही छोड़ रहे शराब के ठेकेदार

आहते के ठीक सामने सोडानी डायग्नोस्टिक सेंटर है जहा मरीज आते है, पड़ोस में एक बड़ा व्यावसायिक पारिवारिक मॉल है, इंदौर की सबसे सुकून देने वाली सड़क है, वहा पर इसका विपरीत असर पड़ेगा।

indore, indore news, indore hindi news, indore indore latest news,

इंदौर: शहर के मध्य की सबसे स्वच्छ रोड, जंजीर वाला चौराहे पर बास्केट बॉल काम्प्लेक्स से लगी निजी प्लाट पर देसी और विदेशी आहता बन रहा है। लगभग ५००० स्क्वायर फ़ीट पर बन रहा यह आहता बन कर तैयार हो रहा है, और ठीक मैंन रोड पर खुलने वाला यह आहता जल्द ही स्वच्छतम रोड पर शराब का यह कारोबार, सम्पूर्ण रोड को बर्बाद करने में कोई कसर नहीं छोड़ेगा। प्लाट के ठीक पीछे स्वामी विवेकानंद स्कूल है, प्लाट से सट कर बास्केट बॉल काम्प्लेक्स है, जहा हजारो बच्चे- बच्चियां और युवा बास्केट बॉल खेलने आते है, इनका यहाँ आना बंद हो जायगा, क्युकी कोई भी अपने बच्चे को यहाँ भेजने से पहले सोचेगा। नवरात्र में गरबा महोस्तव इंदौर शहर का सबसे बड़ा धार्मिक उत्सव एवं अन्य आयोजन होते है, जहाँ हजारो की तादाद में शहर वासी अपने परिवार सहित आते है ।

Must Read- अनुमति के विपरीत कार्य करने पर निगम ने की कार्रवाई, अवैध निर्माण पर चलाई जेसीबी
ज्ञात हो की यही पर जैन समाज के साधू भवंत के प्रवचन भी चातुर्मास में होते है, एवं जैन समाज के साधू संत यहाँ चातुर्मास में ठहरते है, इस समय सम्पूर्ण जैन समाज धार्मिक आयोजन दर्शन हेतु आते है, जैन समाज एवं अन्य समाज के धार्मिक, सांस्कृतिक, शैक्षणिक, सामाजिक कार्यक्रम यही होते आ रहे है। आहते के ठीक सामने सोडानी डायग्नोस्टिक सेंटर है जहा मरीज आते है, पड़ोस में एक बड़ा व्यावसायिक पारिवारिक मॉल है, यही वह रोड है जो VIP रोड यशवंत क्लब की रोड को जोड़ती है, जो इंदौर की सबसे सुकून देने वाली सड़क है, वहा पर इसका विपरीत असर पड़ेगा।

Must Read- PCC चीफ कमलनाथ गांधी भवन पर सभा को करेंगे संबोधित, नामांकन रैली के शामिल होंगे बाकलीवाल

अभय प्रशाल और आई.टी. सी क्लब में आने वाले परिवार और बच्चे और होने वाले सभी कार्यक्रम पर गहरा असर पड़ेगा । सुन्दर चौराहा निचिंत ही बर्बाद होने वाला है। ऐसे में जन आक्रोश बढ़ रहा है, रेस कोर्स रहवासी संघ, एवं पलासिया रहवासी संघ, रेस कोर्स रोड व्यापारी संघ में कलाली खुलने को लेकर बेहद आक्रोश है। अगर सही समय पर निर्णय नहीं लिया गया और कलाली / शराब के ठेके को निरस्त नहीं किया गया तो जन आक्रोश होने की सम्भावना है जिसका परिणाम शहर के लिए दुखःद साबित हो सकता है।