Indore : DAVV में प्रारंभ हुआ ”SOSS – AMUN 2022″, कलेक्टर ने किया उद्घाटन

देवी अहिल्या विश्वविद्यालय में स्कूल ऑफ सोशल साइंस एवं भारत विकास परिषद की यूथ विंग युवक के संयुक्त तत्वावधान में तीन दिवसीय मॉडल संयुक्त राष्ट्र कार्यक्रम का शुभारंभ सोमवार को तक्षिला परिसर में किया गया।

Indore : देवी अहिल्या विश्वविद्यालय में स्कूल ऑफ सोशल साइंस(School of Social Science) एवं भारत विकास परिषद की यूथ विंग युवक के संयुक्त तत्वावधान में तीन दिवसीय मॉडल संयुक्त राष्ट्र कार्यक्रम का शुभारंभ सोमवार को तक्षिला परिसर में किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ कलेक्टर मनीष सिंह द्वारा मुख्य अतिथि के रूप में किया गया। इस अवसर पर भारत विकास परिषद के राष्ट्रीय कोऑर्डिनेटर ए.के. बांदी गेस्ट ऑफ ऑनर के रूप में सम्मिलित हुए। कार्यक्रम में विश्वविद्यालय की कुलपति रेणू जैन एवं सभी प्राध्यापक गण तथा विद्यार्थी उपस्थित रहे।

युवाओं में वैश्विक मानकों के अनुसार ज्ञान साझा करने के प्रवाह को मिलेगा बढ़ावा – कलेक्टर सिंह कलेक्टर मनीष सिंह ने कहा कि आज के कार्यक्रम का महत्व और अधिक इस मायने से हो जाता है कि मॉडल संयुक्त राष्ट्र कार्यक्रम से हमारे युवाओं में वैश्विक मानकों के अनुसार ज्ञान साझा करने के प्रवाह को बढ़ावा मिलेगा। साथ ही उनमें राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर महत्वपूर्ण विषयों के संबंध में जागरूकता का संचार हो सकेगा। इस कार्यक्रम के तहत बनाई गई 6 कमेटी के माध्यम से हमारे युवाओं को जनता के हित को समझने में आसानी रहेगी।

Read More : MP News : कश्मीर वापस जाना चाहते है कश्मीरी पंडित तो सरकार ऐसे करेगी मदद

एग्जीक्यूशन प्रोसेस में जनता पर क्या प्रभाव पड़ता है एवं इस प्रोसेस को बेहतर रणनीति और स्ट्रेटजी के साथ कैसे क्रियान्वित किया जा सकता है यह समझ हमारे युवाओं में विकसित हो सकेगी। कलेक्टर सिंह ने कहा कि कोरोना काल के दौरान हमारे सामाजिक संगठनों के यूथ विंग में प्रवासी मजदूरों की सहायता से लेकर वैक्सीनेशन महाअभियान तक हर संभव सहयोग प्रदान किया। आम जनता में कोरोना से बचाव के प्रति जागरूकता लाना एवं गाइडलाइंस का पालन कराने के लिए युवाओं ने कई प्रकार की रणनीति अपनाई और शहर को कोरोना मुक्त बनाने में अहम भूमिका निभाई।

Read More : बड़े हादसे का शिकार होने से बचा Spicejet का विमान, ऐसा हुआ यात्रियों का हाल

 

उन्होंने कहा कि यदि इंदौर स्वच्छता में नंबर वन है तो उसमें सबसे महत्वपूर्ण योगदान शहर के युवाओं का है। शहर के स्कूल से कॉलेज तक के विद्यार्थियों ने कचरा कलेक्शन से लेकर सेग्रीगेशन तक समाज को एवं अपने-अपने अभिभावकों को स्वच्छता के महत्व के बारे में जागरूक किया। यह है हमारी युवाओं की ताकत। कलेक्टर सिंह ने कहा कि कार्यक्रम के दौरान कोई भी नीति बनाते समय महिलाओं की उसमें भागीदारी सुनिश्चित करने पर भी पूर्ण रूप से ध्यान दिया जाये।

कुलपति जैन ने बताया कि देवी अहिल्या विश्वविद्यालय इंदौर ने हमेशा अपने छात्रों को उनकी प्रतिभा को बढ़ाने और प्रदर्शित करने के कई कार्यक्रम आयोजित किये हैं। इस वर्ष, डीएवीवी अपना पहला मॉडल संयुक्त राष्ट्र कार्यक्रम आयोजित कर रहा है। कार्यक्रम में 6 कमेटी के माध्यम से प्रतिनिधियों को एक बेजोड़ मॉडल यूएन अनुभव प्रदान करेगा। इस आयोजन के पीछे उद्देश्य हमारी क्षेत्रीय, राष्ट्रीय और वैश्विक चुनौतियों का सामना करने के लिए समाधान प्राप्त करने हेतु युवाओं का बौद्धिक विकास करना है।