इंदौर। आयुक्त प्रतिभा पाल ने बताया कि स्वच्छता में लगातार पांचवीं बार नंबर वन इंदौर शहर की स्वच्छता एवं सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट को देखने के लिए अन्य प्रदेशों के शहरो के जनप्रतिनिधि एवं अधिकारी आ रहा है। इसी क्रम में नागालैंड राज्य के विभिन्न शहरों से प्रशासनिक अधिकारियों का दल आया है, जिसमें नागालैंड के दल में नगर मामलों के निदेशालय ए. चेनीथंग लोथा अतिरिक्त निदेशक एवं विभागाध्यक्ष, ख्योथुंगलो किकोनी संयुक्त निदेशक, टेम्जेनरेनला केचुस संयुक्त निदेशक, वाचुसी कटिरि उप निदेशक, केविलेनुओ सोलो, वियतसोल्हो कोज़ा उप निदेशक योजना सहायक, केनिंगुनुओ केलियो योजना सहायक, मेत्सिविनो किखि झील प्राधिकरण, अकाला रुडीक झील प्राधिकरण, अरहोनी जेड, हुकातो ए येप्थोमी मिसो, होन्हेह कोन्याक, नीलहोफ्रेली, रोहबी संगतम, सरियोंगबा बी. लोंगकुमेरो, सेयेंगोई सोहो एमआईएस सहायक,, ओपंगयांगर, इमलीकुंबा संगतम एमआईएस, सैमुअल ए येप्थो, सेंतियापंग फील्ड सहायक सहित नगर परिषद वोखा, जुन्हेबोटो नगर, सोम, कोहिमा नगर पालिका, भंडारी नगर परिषद, दीमापुर नगर परिषद, फेक नगर परिषद, चुमौकेदिमा नगर परिषद, त्युएनसांग नगर परिषद, आदि शामिल है।

Also Read – Congress में बगावत करने वाले को बाहर करे पार्टी

इंदौर के सॉलिड वेस्ट मेनेजमेंट व स्वच्छता अभियान को देखने आए नागालेण्ड के प्रशासनिक अधिकारियों को अपर आयुक्त ऋषभ गुप्ता एवं अधीक्षण यंत्री महेश शर्मा द्वारा स्मार्ट सिटी आफिस में प्रेजेटेशन के माध्यम से स्वच्छता अभियान की विस्तार से जानकारी दी गई।

इस अवसर पर अपर आयुक्त ऋषभ गुप्ता एवं अधीक्षण यत्रंी महेश शर्मा द्वारा प्रेजेटेशन के माध्यम से इंदौर के स्वच्छता अभियान के विस्तृत जानकारी देते हुए, बताया कि किस प्रकार से पूर्व में इंदौर में जगह-जगह कचरा पेटिया हुआ करती थी, जिस कचरा पेटी के आस-पास कचरे के ढेर लगा हुए होते थे, इसके पश्चात इंदौर ने स्वच्छता अभियान के तहत इंदौर को कचरा पेटी से मुक्त करते हुए, डोर टू डोर कचरा संग्रहण वाहन चलाये, जिनका जीपीएस सिस्टम के माध्यम से मॉनिटरिंग की जा रही है। सभी कचरा संग्रहण वाहनो अपने निर्धारित रूट व समय पर अपने कार्य क्षेत्र में कार्य कर रहे है। शहर को ओडीएफ मुक्त कैसे किया, पहले गीला-सुखा कचरा संग्रहित किया जाता है। अब हर दिन 6 बिन की तर्ज पर 6 प्रकार का कचरा संग्रहित किया जा रहा है। थैला बैंक, बर्तन बैंक, डिस्पोजल फ्री क्षेत्र, जीरो वेस्ट इवेंट, जीरो वेस्ट शादी, नाला सफाई अभियान, नाला क्रिकेट, नाला मेडिकल चेकअप, नाला फुटबॉल, नाला दंगल व अन्य गतिविधियें के संबंध में विस्तार से जानकारी दी गई। साथ ही डोर टू डोर कचरा संग्रहण वाहनो से संग्रहित कचरे को गारबेज कचरा ट्रांसर्फर स्टेशन तक किस प्रकार से पहुंचाया जा रहा है, इस सेग्रिगेट कचरे को किस प्रकार से ट्रेचिंग ग्राउण्ड पर डिसेंटलाईज्ड मटेरियल रिकवरी प्लांट व ड्राय वेस्ट प्रोसेसिंग प्लांट, कम्पोस्ट प्लांट में प्रोसेस किया जा रहा है। इसके साथ ही टेचिंग ग्राउण्ड में निर्माणधीन बायागैस प्लांट के संबंध में भी विस्तार से जानकारी देते हुए, बताया कि यह एशिया को बडा बायोगैस सीएनजी प्लांट है। जहां पर गीले कचरे से बायोगैस का निर्माण किया जाकर उसे लोक परिवहन में उपयोग किया जा रहा है।

Also Read – Indore : यातायात के नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहनों पर पुलिस की कार्रवाई, बिना रजिस्ट्रेशन वाली गाड़ियों पर लगाया जुर्माना