6 करोड़ नौकरीपेशा लोगों को झटका, 40 साल के निचले स्तर पर आई EPFO की ब्याज दर

भविष्य निधि जमा पर ब्याज दर बढ़ने की उम्मीद लगा कर बैठे लोगों को हाल ही में एक बड़ा झटका लगा है। बताया जा रहा है कि हाल ही में EPFO ने ब्याज अपनी ब्याज दार बढ़ाने की जगह कम कर दी है।

भविष्य निधि जमा पर ब्याज दर बढ़ने की उम्मीद लगा कर बैठे लोगों को हाल ही में एक बड़ा झटका लगा है। बताया जा रहा है कि हाल ही में EPFO ने ब्याज अपनी ब्याज दार बढ़ाने की जगह कम कर दी है। ऐसे में ये 40 साल के सबसे निचले स्तर पर आ गई है। दरअसल, साल 2021-22 के लिए 8.1 फीसदी ब्याज दर की घोषणा की गई है।

ये 2020-21 में 8.5 फीसदी था। इसकी जानकारी सूत्रों द्वारा की गई है। जानकारी के मुताबिक, भविष्य निधि जमा पर ब्याज 40 साल के सबसे निचले स्तर पर आ गया है। इससे पहले ये 1977-78 साल में की। उस समय ईपीएफ की ब्याज दर 8 फीसदी थी।

Must Read : UGC का बड़ा फैसला, खत्म करेगी केंद्रीय विश्वविद्यालयों में पढ़ाने के लिए PhD की अनिवार्यता

बता दे, सूत्रों द्वारा बताया गया है कि कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) की शीर्ष निर्णय लेने वाली संस्था केंद्रीय न्यासी बोर्ड (CBT) ने आज बैठक ली जिसमें ये फैसला लिया गया कि 2021-22 के लिए ईपीएफ पर 8.1 प्रतिशत ब्याज दर की जाए।

दरअसल, सीबीटी ने 2020-21 के लिए ईपीएफ जमा पर 8.5 प्रतिशत की ब्याज दर पहले यानी मार्च में तय की थी। जो अब बदल दी गई है। जानकारी है कि इस फैसले के बाद अब ईपीएफ जमा पर ब्याज दर वित्त मंत्रालय को सहमति के लिए भेजी जाएगी। दरअसल, वित्त मंत्रालय के द्वारा ही इसकी ष्टि करने के बाद ही EPFO सरकार द्वारा ब्याज दर प्रदान करता है।