Shani Upay 2022 : शनिदेव के इन उपायों से मिलेगी हर समस्या से मुक्ति, ये है महत्वपूर्ण टोटका

Shani Upay 2022 : शनि को न्याय और कर्मफल का देवता माना जाता है। शनि को प्रसन्न करके व्यक्ति जीवन के कष्टों को कम कर सकता है।

Shani Margi 2021

Shani Upay 2022 : शनि को न्याय और कर्मफल का देवता माना जाता है। शनि को प्रसन्न करके व्यक्ति जीवन के कष्टों को कम कर सकता है। ऐसा माना जाता है कि जब भी कभी ग्रहों में किसी तरह का कोई बदलाव होता है तो इसका सीधा असर हमारी राशि पर पड़ता है। जिस वजह से कुंडली पर शनि बैठ जातें हैं और ऐसे में व्यक्ति के जीवन में दुख भी आ सकते हैं तो खुशियां भी आ सकती हैं।

Must Read : Alert: अब लेन-देन के लिए PAN Card को Aadhar Card से लिंक करना होगा जरूरी, इस बैंक ने दी चेतावनी!

हिन्दू मान्यताओं के अनुसार शनि के नाराज होने से व्यक्ति के जीवन पर गहरा असर पड़ता है। शनिदेव प्रसन्न होते हैं तो बिगड़े हुए काम बन जाते हैं और सफलता भी प्राप्त होती है। वहीं शनि का राशि परिवर्तन काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। आज हम आपको शनि देव को प्रसन्न करने के कुछ खास उपाय बताने जा रहे हैं। दरअसल, शनि देव को प्रसन्न कर उनकी कृपा पाने के लिए भक्त कई तरह के उपाय करते हैं। ऐसे में आप भी कुछ उपाय कर के शनिदेव को प्रसन्न कर सकते है। तो चलिए जानते है उन उपायों के बारे में –

शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए उपाय –

  1. सबसे पहले आपको बता दे, काली गाय की सेवा करना होगी। ऐसे में आपको काली गाय के मस्तक पर कुमकुम लगाना है उसके बाद सींगों में धागा बांधकर पूजा करना होगा। उसके बाद परिक्रमा करके गाय को बून्दी के लड्डू लिखाना होंगे।
  2. इसके अलावा आज के दिन शाम को बरगद और पीपल के पेड़ के सरसो के तेल का दिया लगाना चाहिए। उसके बाद दूध और धूप चढ़ानी चाहिए। इससे सभी समस्यों से छुटकारा मिलता है।
  3. बता दे, आज के दिन शाम को हनुमान जी कि पूजा करना चाहिए। साथ ही पूजा में सिंदूर रखकर आरती का दीपक जलने के लिए थोड़े से काले तिल का इस्तेमाल करें। वहीं नीले रंग के फूलों का उपयोग करना भी अच्छा माना जाता है।
  4. काले कुत्तों को दूध पिलायें और तेल लगी रोटी खिलायें।

टोटका –

ज्योतिषों द्वारा बताया गया है कि 3 बर्तन में सवा-सवा सेर काले चने अलग-अलग भिगो दें। उसके बाद अगले दिन स्नान आदि से निवृत होकर शनि देव करें। साथ ही सरसों के तेल में छौंके हुए काले चनों का भोग लगाएं। उसके बाद पहला सवा सेर चना भैंसे को खिला दें। दूसरा सवा सेर चना कुष्ट रोगियों को बांट दें। तीसरे सवा सेर चने को अपने ऊपर से उतार कर अपने घर से दूर किसी ऐसी जगह रख आएं, जहां कोई जाता न हो।