RBI के Repo Rate बढ़ने के बाद SBI ने ग्राहकों को दी राहत, बढ़ाया FD पर मिलने वाला ब्याज

RBI के बढ़े रेपो रेट के बाद SBI ने ग्राहकों को राहत देते हुए FD पर मिलने वाले ब्याज की दर बढ़ा दी है.

आरबीआई (RBI) की रेपो रेट (Repo Rate) की वजह से लोन महंगे हो गए हैं. लेकिन इसके बीच देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई (SBI) ने अपने ग्राहकों के लिए एक खुशखबरी दी है. बैंक ने फिक्स डिपॉजिट (FD) पर मिलने वाले ब्याज की दरों को बढ़ाने का ऐलान किया है. एक दिन पहले ही रिजर्व बैंक की ओर से रेपो रेट(Repo Rate Hike) बढ़ाए गए हैं जो 0.50 फीसदी बढ़ाकर 4.90 पी कर दिए गए हैं. इस समय में एसबीआई का यह फैसला ग्राहकों को राहत देने वाला है.

एसबीआई (SBI) के चेयरमैन दिनेश कुमार ने बिजनेस टुडे से बात करते हुए इस बात की जानकारी दी है कि रिजर्व बैंक के रेपो रेट बढ़ने के बाद एसबीआई एफडी (Fix Deposite) पर ज्यादा ब्याज देने वाला है. उन्होंने कहा है कि नए एफडी रेट की बात करें तो वह भी नई ब्याज दरों के अनुकूल ही रखे जाएंगे. उन्होंने बताया कि हम पहले ही परिपक्वता अवधि वाले डिपॉजिट के लिए ब्याज की दरों को बढ़ा चुके हैं.

Must Read- Urmila Matondkar छोटे पर्दे से कर रही हैं वापसी, इस शो को जज करती आएंगी नजर

बता दें कि फिलहाल स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (State Bank Of India) 12 से 24 महीने के लिए की गई एफडी पर 5.10 फ़ीसदी ब्याज देती है. 3 से 5 साल तक की अवधि के लिए 5.45 फीसदी ब्याज दर रखी गई है. चेयरमैन ने बताया कि ऐसे बहुत से लोन हैं जिनके रेट वेरिएबल इंटरेस्ट रेस्ट बेंचमार्क से लिंक है, इन सब में ब्याज दरें कुछ ज्यादा बढ़ जाएंगी. इस दौरान उन्होंने आरबीआई (RBI) द्वारा क्रेडिट कार्ड को यूपीआई से लिंक करने को मंजूरी देने के लिए धन्यवाद दिया है. फिलहाल इस बात की शुरुआत रुपए कार्ड (Rupay Card) से की जाने वाली है. इसके बाद वीजा (Visa) और मास्टर कार्ड (Master Card) को भी यूपीआई से लिंक किया जा सकेगा.

एसबीआई (SBI) की ओर से दी गई खबर ग्राहकों के लिए राहत बनकर आई है. क्योंकि पिछले महीने से रेपो रेट (Repo Rate) लगातार बढ़ाए जा रहे हैं. बीते एक डेढ़ महीने में दो बार ब्याज दर बढ़ चुकी है. रिजर्व बैंक की ओर से मई में रेपो रेट 0.40 फीसदी बढ़ाया गया था और जून में एक बार फिर 0.50 सदी की बढ़ोतरी कर दी गई है. इस वजह से बैंक ब्याज तो ज्यादा ले रहे हैं, लेकिन डिपॉजिट पर ग्राहकों को कोई फायदा नहीं दिया जा रहा है. ऐसे में SBI का फैसला ग्राहकों को लाभ देगा.