इन 3 राशियों पर शनि रहते हैं मेहरबान, नहीं पड़ता साढ़े साती का बुरा प्रभाव,

हिन्दू मान्यताओं के अनुसार शनि के नाराज होने से व्यक्ति के जीवन पर गहरा असर पड़ता है। शनिदेव प्रसन्न होते हैं तो बिगड़े हुए काम बन जाते हैं और सफलता भी प्राप्त होती है।

shanidev

शनि को न्याय और कर्मफल का देवता माना जाता है। शनि को प्रसन्न करके व्यक्ति जीवन के कष्टों को कम कर सकता है। ऐसा माना जाता है कि जब भी कभी ग्रहों में किसी तरह का कोई बदलाव होता है तो इसका सीधा असर हमारी राशि पर पड़ता है। जिस वजह से कुंडली पर शनि बैठ जातें हैं और ऐसे में व्यक्ति के जीवन में दुख भी आ सकते हैं तो खुशियां भी आ सकती हैं।

Shani

हिन्दू मान्यताओं के अनुसार शनि के नाराज होने से व्यक्ति के जीवन पर गहरा असर पड़ता है। शनिदेव प्रसन्न होते हैं तो बिगड़े हुए काम बन जाते हैं और सफलता भी प्राप्त होती है। वहीं ज्योतिष शास्त्र की मानें तो कुछ राशियां ऐसी भी हैं जिन पर शनि की विशेष कृपा रहती है। कहते हैं इन राशियों के लोगों पर शनि साढ़े साती या शनि ढैय्या का उतना बुरा प्रभाव नहीं पड़ता जितना की अन्य राशियों के लोगों पर पड़ता है।

shani

ये तीन राशियां हैं तुला, मकर और कुंभ। बता दें शनि मकर और कुंभ राशियों के स्वामी ग्रह हैं। जिस कारण इन दोनों ही राशियों के लिए शनि की कोई भी दशा उतनी कष्टदायी नहीं होती बल्कि इन राशि के लोगों को शनि की दशा के दौरान कुछ न कुछ लाभ प्राप्त होने के आसार रहते हैं।

shani

वहीं तुला राशि की बात करें तो शनि इस राशि के स्वामी तो नहीं हैं लेकिन इस राशि में शनि की स्थिति उच्च होती है। जिस वजह से शनि इस राशि के लोगों पर भी विशेष तौर पर मेहरबान रहते हैं। बता दें तुला राशि के स्वामी ग्रह शुक्र देव हैं। शनि शुक्र ग्रह के साथ मित्रता का भाव रखते हैं। कुंडली में इन दोनों ग्रहों का बनने वाला योग सबसे प्रभावी और मजबूत योग तक माना जाता है।

यदि कुंडली में ये दोनों ग्रह एक साथ हों और अन्य ग्रह भी अपने-अपने शुभ स्थान पर हो तो ऐसे व्यक्ति को जीवन में तमाम सुख प्राप्त होते हैं। यदि ये दोनों ग्रह एक साथ कुंडली के सप्तम भाव में विराजमान हों तो ऐसे व्यक्ति को सुख, धन, दौलत सभी सुख प्राप्त होने के आसार रहते हैं। बता दें तुला राशि वालों पर इस समय शनि ढैय्या चल रही है। वहीं मकर और कुंभ राशि वालों पर शनि की साढ़े साती। जिसमें से तुला वालों को 29 अप्रैल 2022 तक शनि ढैय्या से मुक्ति मिल जाएगी।