सूनी हो गई नन्दलालपुरा की ताई गली, लोगों में छाई मायूसी

0
sumitra mahajan

इंदौर, प्रमोद दीक्षित। 1989 में जिस नन्दलालपुरा की गली से लोकसभा अध्यक्ष श्रीमती सुमित्रा महाजन यानी ताई की राजनीतिक यात्रा की शुरुआत हुई थी वहां आज पूरी तरह से सन्नाटा पसरा हुआ है। आस पास के रहने वाले यह नहीं समझ पा रहे हैं कि आखिर भाजपा को 75 के आंकड़े से ऐतराज क्यों है। क्योकि इस देश मे कलाम हो या अन्य कई वरिष्ठ उन्होंने 75 के बाद भी ऐसा कुछ कर दिखाया कि देश ने उन्हें सलाम किया।

बहरहाल नन्दलालपुरा तो कभी किन्नरों के डेरो के लिए पहचाना जाता था। लोग यह बताने में भी शर्माते थे कि वे नन्दलालपुरा के रहने वाले हैं। लेकिन ताई के राजनीति में आने और सफल होने के बाद यहां के लोग फक्र से कहते कि हम ताई के मोहल्ले नन्दलालपुरा में रहते हैं। ताई के राजनीति में आने के पहले यह क्षेत्र पूरी तरह कांग्रेस के प्रभाव में था लेकिन धीरे धीरे परिदृश्य बदलता गया। आज नन्दलालपुरा में चुनावी रंग दिखाई नहीं दे रहा है। नगर निगम पंचायत या फिर इंदौर का कोई भी चुनाव हो यहां राजनीतिक हलचल दिखाई देने लगती थी।

यहां के लोग इस बात को लेकर भी मायूस है कि अब शायद इस गली की फिर कभी रंगत वापस नहीं लौटेगी क्योकि ताई की उम्र अब कम नहीं होगी बढ़ती ही जाएगी। यहां के लोगों ने कहा कि ताई के कारण उन्हें इसी गली में देश के जाने माने नेताओं से मिलने का मौका मिला। उन्हें गर्व था कि कोई बात होगी तो ताई संभाल लेंगी। वे ताई की सौम्यता के कायल हैं। सुनिए क्या कहते हैं नन्दलालपुरा के लोग।