श्री अरबिंदो की 150वीं जयंती के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों को बधाईयां दी। एक महापुरूष की याद करते हुए एक विशेष सिक्का और डाक टिकट जारी किया है उनकी प्रेरणाओं, विचारों को हमारी नई पीढ़ी तक पहुंचाने के लिए देश ने इस पूरे साल को विशेष रूप से मनाने का संकल्प लिया था।

पीएम मोदी ने आगे कहा, ‘इसके लिए एक उच्च स्तरीय कमेटी गठित की गई थी, संस्कृति मंत्रालय के नेतृत्व में तमाम अलग-अलग कार्यक्रम भी हो रहे हैं.’ पीएम मोदी ने कहा, ‘श्री अरबिंदो का जीवन एक भारत श्रेष्ठ भारत का प्रतिबिंब है। उनका जन्म भले ही बंगाल में हुआ था, लेकिन अपना ज्यादातर जीवन उन्होंने गुजरात और पुडुचेरी में बिताया। वे जहां भी गए वहां अपने व्यक्तित्व की गहरी छाप छोड़ी।’

उन्होंने कहा, ‘जब प्रेरणा और कर्तव्य, मोटिवेशन और एक्शन एक साथ मिल जाते हैं, तो असंभव लक्ष्य भी अवश्यम्भावी हो जाते हैं। आज़ादी के अमृतकाल में आज देश की सफलताएं, देश की उपलब्धियां और सबका प्रयास का संकल्प इस बात का प्रमाण है।’ पीएम मोदी ने संबोधन के कुछ देर बाद इस अवसर पर स्मारक सिक्का और डाक टिकट भी जारी किया।

पीएम मोदी ने भारत को अमर बीज बताते हुए कहा, ‘हमारा देश विपरीत से विपरीत परिस्थितियों में थोड़ा दब सकता है, थोड़ा मुरझा सकता है, लेकिन वो मर नहीं सकता क्योंकि भारत मानव सभ्यता का सबसे परिष्कृत विचार है, मानवता का सबसे स्वाभाविक स्वर है।’ पंद्रह अगस्त, 1872 को पैदा हुए श्री अरबिंदो एक दूरदर्शी व्यक्ति थे, जिन्होंने भारत के स्वतंत्रता संग्राम में महत्वपूर्ण योगदान दिया था।