मध्यप्रदेश के 2 शहरो में कमिश्रर प्रणाली को पूरा एक साल हो गया है. कमिश्रर प्रणाली लागू होने के बाद से अब तक राजधानी भोपाल और आर्थिक इंदौर में अपराधों में की संख्या में कमी है. इस प्रणाली के लागू होने के बाद पहली बार महानगरों की तर्ज पर प्रदेश के किसी जिले में पुलिस ने आधी रात को ताबड़तोड़ कार्यवाही की. यह कार्रवाई मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के गृह जिले सीहोर में हुई.

देहात पुलिस महानिदेशक इरशाद वली और पुलिस अधीक्षक मयंक अवस्थी के दिशा निर्देशन में हुई कार्रवाई में पुलिस ने अलग-अलग अपराधों के 143 अपराधियों को गिरफ्तार किया है. गौरतलब है कि मध्यप्रदेश के भोपाल और इंदौर में कमिश्नर प्रणाली को नौ दिसंबर को एक साल हो गया है. इस प्रणाली से अपराधों में आ रही गिरावट को देखते हुए पहली बार प्रदेश के किसी जिले में यह प्रयोग किया गया.

10 दिसम्बर को हुई थी कार्यवाही

भोपाल के नजदीकी जिले में 10 दिसंबर की रात पुलिस ने ताबड़तोड़ कार्रवाई की. स्थाई वारंटी इनामी बदमाशों और अन्य अपराधों में फरार आरोपियों की धरपकड़ की गई. अपराधियों की धरपकड़ के लिए 240 का बल पार्टियां बनाकर नाइट कमिंग गस्त की कार्यवाही की गई.

एक रात में 200 गिरफ्तार

पुलिस द्वारा की गई काम्बिंग गश्त में पुलिस ने सुबह चार बजे तक कार्यवाही की. इस दौरान पुलिस ने 83 स्थायी वारंटियों को गिरफ्तार किया, जबकि गिरफ्तार वारंट में 51 फरार आरोपियों में एक, इनामी बदमाशों में दो, जिला बदर में दो, अन्य अपराधियों में चार को गिरफ्तार किया. इस तरह पुलिस ने सुबह चार बजे तक चली कार्रवाई के दौरान 143 आरोपियों को गिरफ्तार किया है.