इंदौर को स्वच्छ सर्वेक्षण स्पर्धा से बाहर रखने जैसा कोई प्रस्ताव नहीं-विनय झा

indore

इंदौर (Indore News) : केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय स्वच्छ भारत मिशन शहरी के डायरेक्टर विनय झा ने कहा है कि 5 बार देश में स्वच्छता में नंबर वन आने वाले शहर इंदौर को स्वच्छ सर्वेक्षण 2022 की स्पर्धा से बाहर रखने जैसा कोई प्रस्ताव नहीं है और ना ही अब तक इस पर कोई चर्चा हुई है। उन्होंने स्पष्ट किया कि इंदौर को आईकॉनिक सिटी के रूप में स्पर्धा से बाहर रखें जाने का किसी का व्यक्तिगत विचार हो सकता है लेकिन विभागीय स्तर पर ऐसा कोई निर्णय नहीं लिया गया है।

यह भी पढ़े : Corona का कहर: UP में सभी शिक्षण संस्थान में 6 फरवरी तक लगा ताला

इसके पूर्व नगर निगम परिसर में आयोजित गणतंत्र दिवस समारोह में नगर निगम प्रशासक और संभाग आयुक्त डॉ पवन कुमार शर्मा ने यह कर कह कर सबको चौका दिया था कि शायद इस बार इंदौर को स्वच्छ सर्वेक्षण स्पर्धा से बाहर रखा जाएगा। उन्होंने कहा था कि बाकी शहरों को कंप्लेन है कि वह इंदौर के कारण प्रथम स्थान पर नहीं आ पाते हैं उन्होंने कहा कि हो सकता है कि हम इस बार पार्टिसिपेट नहीं करेंगे।

यह भी पढ़े : Indore Vaccination : हेल्थ केयर और फ्रंटलाइन वर्कर्स को बूस्टर डोज अनिवार्य

डॉ शर्मा ने यह भी कहा था कि इंदौर को आईकॉनिक सिटी के रूप में अवार्ड की कांटेक्ट से बाहर रखा जा सकता है । जो भी स्थिति होगी उसके लिए हम सब तैयार हैं। इस बारे में जब शहरी विकास मंत्रालय के अधिकारियों से जानकारी चाही गई तो उन्होंने ऐसे किसी प्रस्ताव या निर्णय से साफ इनकार कर दिया। निगम प्रशासक के इस बयान से शहर के आम लोगों में स्वच्छता को लेकर जो उत्साह था वह ठंडा पड़ गया और नगर निगम के अधिकारी कर्मचारी भी प्रशासक के इस बयान से स्तब्ध थे।