दिल्ली में ‘नो डिटेंशन पॉलिसी’ लागू, इस वर्ष सिर्फ पास होंगे 8 वीं तक के बच्चे, नहीं होगा कोई फेल

दिल्ली में इस वर्ष 2022 में नर्सरी से 8 वीं तक के छात्र-छात्राओं के लिए ‘नो डिटेंशन पॉलिसी’ लागू की गई है। दिल्ली में इस वर्ष 2022 में नर्सरी से 8 वीं तक के छात्र-छात्राओं के लिए ‘नो डिटेंशन पॉलिसी’ लागू की गई है। पालकों के द्वारा पॉलिसी का स्वागत। सभी वर्गों के स्कूलों पर लागु होती है 'नो डिटेंशन पॉलिसी'

देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) में इस वर्ष 2022 में नर्सरी से 8 वीं तक के छात्र-छात्राओं के लिए ‘नो डिटेंशन पॉलिसी’ (No Detention Policy) लागू की गई है। इस पॉलिसी के अनुसार इस वर्ष नर्सरी से 8 वीं तक के दिल्ली में इस वर्ष 2022 में नर्सरी से 8 वीं तक के छात्र-छात्राओं के लिए ‘नो डिटेंशन पॉलिसी’ लागू की गई है। । बीते वर्षों में नियमित स्कूली शिक्षा में आए व्यवधान के परिणाम स्वरूप यह निर्णय लिया गया है। गौरतलब है की यह ‘नो डिटेंशन पॉलिसी’ सिर्फ इसी वर्ष 2022 के लिए ही दिल्ली में लागू की गई है।

Also Read-ब्रिटेन के प्रधानमंत्री पद के लिए भारतीय मूल के ऋषि सुनक का मुकाबला है महिला नेत्री पेनी मोर्डेंट से

पालकों के द्वारा पॉलिसी का स्वागत

बीते दो सालों में कोरोना प्रकोप के चलते बच्चों के स्कुल काफी लम्बे समय तक बंद रहे। हालात कुछ बेहतर होने के साथ ही ऑनलाइन पढ़ाई अस्तित्व में आई, परन्तु शुरुआती दौर होने की वजह से पूरी तरह से ऑनलाइन पढ़ाई को व्यवहार में लाया नहीं जा सका। हालात खतरे से बाहर होने के बाद ऑफलाइन पढ़ाई का दौर फिर शुरू हुआ मगर नागरिकों में कोरोना भय व सरकारी गाइडलाइनों के साथ कोरोनाकाल के पहले की तरह स्कुल-कॉलेज संचालित नहीं हो पाए थे। इस दौरान विभिन्न स्वरूपों में छात्र-छात्राओं की पढ़ाई का नुक्सान हुआ और वे सामान्य वर्षों की तुलना में पढ़ाई नहीं कर सके। ‘नो डिटेंशन पॉलिसी’ लागू होने की जानकारी मिलने से छात्र-छात्राओं के अभिभावकों में ख़ुशी की लहर है। इस फैसले का सभी पालकगण स्वागत कर रहे हैं।

Also Read-द ग्रेट खली ने मारा टोल कर्मचारी को थप्पड़, लगाया ब्लेकमैल करने का आरोप

सभी वर्गों के स्कूलों पर लागु होती है ‘नो डिटेंशन पॉलिसी’

नो डिटेंशन पॉलिसी स्कूलों के सभी वर्गों पर लागू होती है। शासकीय विधालय, शासकीय सहायता प्राप्त (अर्ध शासकीय )विधालय और प्राइवेट स्कूलों सभी पर ‘नो डिटेंशन पॉलिसी’ लागू होती है। अर्थात इन सभी स्कूलों के क्लास नर्सरी से 8 वीं तक के विद्यार्थी बिना फेल हुए अगली कक्षा में प्रवेश के अधिकारी होंगे ।